धनबाद: चमकी बुखार पर अलर्ट के बावजूद PMCH में जरूरी दवाएं नहीं

अस्पताल में लगे दवाचार्ट में पैरासिटामोल गोली समेत जीवन रक्षक दवाइयों के नहीं होने की बात बताई गई है. चार्ट के मुताबिक 25- 30 में से मात्र 11 तरह की ही दवाइयां अस्पताल में बची हैं.

News18 Jharkhand
Updated: June 28, 2019, 3:48 PM IST
धनबाद: चमकी बुखार पर अलर्ट के बावजूद PMCH में जरूरी दवाएं नहीं
चमकी बुखार पर अलर्ट के बावजूद PMCH में जरूरी दवाएं नहीं
News18 Jharkhand
Updated: June 28, 2019, 3:48 PM IST
बिहार के मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार के कहर को देखते हुए पड़ोसी राज्य झारखंड में भी स्वास्थ्य विभाग ने अलर्ट जारी किया है. लेकिन इस अलर्ट का धनबाद के पाटलिपुत्रा मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (पीएमसीएच) में कोई असर नहीं दिख रहा. यह सूबे का तीसरा सबसे बड़े अस्पताल है. यहां पूरे कोयलांचल के हजारों मरीज रोज पहुंचते हैं. लेकिन स्थिति ये है कि अस्पताल में जीवन रक्षक दवाइयां तक मौजूद नहीं हैं. 30 प्रकार में से मात्र 11 तरह की ही दवाइयां अस्पताल में उपलब्ध है.

पीएमसीएच में नहीं हैं जरूरी दवाएं 

पीएमसीएच के खस्ताहाल की कहानी अस्पताल में लगे दवाचार्ट बता रहा है. चार्ट में पैरासिटामोल गोली समेत जीवन रक्षक दवाइयों के नहीं होने की बात बताई गई है. चार्ट के मुताबिक 25- 30 प्रकार में से मात्र 11 तरह की ही दवाइयां अस्पताल में बची हैं. यानि इस साल दवा की खरीदारी ही नहीं हुई. जबकि धनबाद सहित आस- पास के 6 जिलों से प्रतिदिन यहां दो से ढाई हजार मरीज इलाज कराने पहुंचते हैं. लिहाजा गरीब मरीजों को दवा से लेकर सुई तक के लिए अपनी जेब ढीली करनी पड़ती है.

डॉक्टर के अभाव में मनोरोग विभाग बंद

पीएमसीएच से इतर धनबाद जिले के स्वास्थ्य व्यवस्था का हाल यह है कि यहां के 6 सीएचसी और 28 पीएचसी में पहले से ही डॉक्टरों का घोर अभाव है. पीएमसीएच के कुल 22 विभागों में से एक मनोरोग विभाग डॉक्टर के अभाव में बंद हो गया है. अस्पताल में 40 प्रतिशत डॉक्टर के पद खाली पड़े हुए हैं. सेंट्रलाइज्ड़ ऑक्सीजन के लिए मिली 7 करोड़ की राशि उपयोग के अभाव वापस हो चुकी है.

चुनाव के चलते नहीं हुई दवा की खरीदारी 

दवा की घोर कमी के बावजूद लोकसभा चुनाव की वजह से वर्तमान वित्तीय वर्ष में पीएमसीएच में दवा की कोई ख़रीदारी नहीं हुई. अब जाकर टेंडर निकला जा रहा है. इधर, डॉक्टरों की कमी की वजह से इस बार भी एमसीआई ने पीएमसीएच में मेडिकल सीट बढ़ाने से इंकार कर दिया.
Loading...

चमकी बुखार को लेकर अलर्ट

इस सबके बावजूद पीएमसीएच के अधीक्षक डॉ एचके सिंह का दावा है कि पीएमसीएच चमकी बुखार जैसी बीमारियों को लेकर अलर्ट है. जरूरी दवाइयों की खरीदारी के लिए टेंडर निकाली गयी है. जिल के सिविल सर्जन डॉ गोपाल दास का कहना है कि एईएस को लेकर जिले के सारे अस्पताल तैयार हैं. हालांकि धनबाद समेत पूरे राज्य में चमकी बुखार का कोई मामला सामने नहीं आया है.

नीति आयोग की रिपोर्ट में सूबे की सेहत बेहतर

हाल में ही स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर नीति आयोग की रिपोर्ट जारी हुई. इसमें झारखंड का स्थान बिहार से बेहतर बताया गया. झारखंड 14वें जबकि बिहार 20वें स्थान पर दिखाया गया. स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार के मामले में झारखंड पूरे देश में तीसरे स्थान पर रहा. लेकिन ये आंकड़ें हैं, जमीनी सच्चाई पीएमसीएच बता रहा है.

रिपोर्ट-  अभिषेक कुमार

ये भी पढ़ें- धनबाद- चंद्रपुरा लाइन पर लौटी रौनक, 1 जुलाई से इन ट्रेनों का शुरू होगा परिचालन

अज्ञात बीमारी की चपेट में आए 200 ग्रामीण, गांव में मचा हड़कंप

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए धनबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 28, 2019, 3:46 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...