Jharkhand News: तृप्ति ने अमेरिका में किया धनबाद का नाम रौशन, ननिहाल ने कहा 'गर्व है'

अमेरिका में डिग्री पाने वाली तृप्ति गुप्ता.

अमेरिका में डिग्री पाने वाली तृप्ति गुप्ता.

Jharkhand News: धनबाद ज़िले से ताल्लुक रखने वाली तृप्ति की उपलब्धि से झरिया के लोग गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं. जानिए तृप्ति की उपलब्धि से क्यों झारखंड का यह कस्बा फख्र महसूस कर रहा है.

  • Share this:

संजय गुप्ता

धनबाद. अमेरिका में उस वक्त झारखंड के धनबाद और बिहार के रक्सौल का नाम गौरवान्वित हुआ, जब तृप्ति ने मास्टर्स की डिग्री हासिल की. डिग्री ही नहीं, बल्कि यह एक तरह से प्रमाण है कि तृप्ति अब वैज्ञानिक बन गई हैं. अमेरिका की इंडियाना यूनिवर्सिटी से मास्टर इन बायोइंफॉर्मेटिक्स में डिग्री हासिल करने वाली तृप्ति का जुड़ाव झारखंड के धनबाद ज़िले की भूमि से है. झरिया निवासी जगदीश प्रसाद गुप्ता की नातिन तृप्ति के अमेरिका में वैज्ञानिक बन जाने की खुशी पूरे कस्बे में गर्व की लहर बन चुकी है. झारखंड के साथ ही, तृप्ति का ताल्लुक बिहार से भी है और राजस्थान से भी.

बिहार के रक्सौल की तृप्ति का ननिहाल झारखंड के झरिया में है. नाना-नानी समेत पूरा इलाका तृप्ति की इस सफलता पर काफी गौरवान्वित महसूस कर रहा है. तृप्ति के पिता राजकुमार गुप्ता मूल रूप से रक्सौल के हैं तो माता पूनम देवी धनबाद की. झरिया से तृप्ति का गहरा नाता रहा है. नाना जगदीश प्रसाद गुप्ता अपनी नतिनी की कामयाबी से बेहद खुश हैं और इसे नारी शक्ति की मिसाल बताते हैं.

ये भी पढ़ें : थानों के सीमा विवाद में उलझी रही पुलिस, चार घंटे नदी में पड़ी रही लाश

bihar jharkhand news, bihar jharkhand samachar, bharat ki beti, jharkhand students, बिहार झारखंड न्यूज़, बिहार झारखंड समाचार, भारत की बेटी
झरिया में तृप्ति के ननिहाल ने खुद को गौरवान्वित बताया.

'पालने में दिखे थे पूत के पांव'

जगदीश प्रसाद के मुताबिक आज बेटियां, बेटों से बिल्कुल कम नहीं हैं. परिवार, समाज और देश का मान बेटियां बढ़ा रही हैं. उन्होंने बताया कि बचपन से ही तृप्ति काफी प्रतिभाशाली रही है. तृप्ति ने सनशाइन स्कूल, रक्सौल से दसवीं की परीक्षा पास की. गंगा इंटरनेशनल स्कूल से 12 वीं और ज्योति विद्यापीठ वुमन यूनिवर्सिटी, जयपुर से बैचलर इन बायोकेमिस्ट्री की शिक्षा ली.



इसके बाद, साल 2020 में तृप्ति ने अमेरिका के इंडियाना यूनिवर्सिटी से मास्टर इन बायोइंफॉर्मेटिक्स की डिग्री हासिल की थी. बायोइंफॉर्मेटिक्स से एमएससी करने वाली तृप्ति वैज्ञानिक के तौर पर अब शोध करने में जुटी है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज