होम /न्यूज /झारखंड /

राहुल-लखन ने जज उत्तम आनंद को जानबूझकर मारा, धनबाद जज मौत मामले में आरोप गठित

राहुल-लखन ने जज उत्तम आनंद को जानबूझकर मारा, धनबाद जज मौत मामले में आरोप गठित

Dhanbad Judge Uttam Anand Murder Case: जज उत्तम आनंद हत्याकांड मामले में दोनों आरोपियों पर आरोप गठित कर दिए गए हैं.

Dhanbad Judge Uttam Anand Murder Case: जज उत्तम आनंद हत्याकांड मामले में दोनों आरोपियों पर आरोप गठित कर दिए गए हैं.

Dhanbad Judge Uttam Anand Murder Case: धनबाद के चर्चित जज उत्तम आनंद हत्याकांड मामले में नामजद आरोपी राहुल वर्मा और लखन वर्मा के खिलाफ आरोप गठित कर दिया गया है. दोनों पर हत्या करने व साक्ष्य छुपाने का चार्ज फ्रेम किया गया है. अब सीबीआई के विशेष न्यायाधीश रजनीकांत पाठक की अदालत में गवाहों को पेश किया जाएगा.

अधिक पढ़ें ...

रिपोर्ट- संजय गुप्ता 

धनबाद. धनबाद के चर्चित जज उत्तम आनंद हत्याकांड मामले में नामजद आरोपी राहुल वर्मा और लखन वर्मा के खिलाफ आरोप गठित कर दिया गया है. दोनों पर हत्या करने व साक्ष्य छुपाने का चार्ज फ्रेम किया गया है. अब सीबीआई के विशेष न्यायाधीश रजनीकांत पाठक की अदालत में गवाहों को पेश किया जाएगा. इसके पहले 24 नवंबर 2021 को ऑटो चोरी के मामले में सीबीआई के विशेष न्यायिक दंडाधिकारी की अदालत में दोनों आरोपियों खिलाफ ऑटो चोरी करने का आरोप तय किया गया था. बता दें जज उत्तम आंनद हत्याकांड में मामले में जेल में बंद दोनों आरोपियों से सीबीआइ ने फिर से पूछताछ की थी. दरअसल सीबीआई एसपी विकास कुमार के द्वारा अदालत से जेल में बंद राहुल वर्मा और लखन वर्मा दोनो से पूछताछ की स्वीकृति मांगी गयी थी. सीबीआई के विशेष न्यायाधीश रजनीकांत पाठक की अदालत में एसपी विकास कुमार द्वारा आवेदन में जेल में बंद राहुल वर्मा और लखन वर्मा दोनों आरोपियों से पूछताछ के लिए आवेदन अदालत में आवेदन समर्पित किया था.


अपने आवेदन में सीबीआई ने अदालत को बताया था कि तफ्तीश में कुछ नए तथ्यों सामने आए हैं, जिसमे गहरी साजिश और मास्टरमाइंड की ओर इशारा कर रहे हैं. इन आरोपियों से पूछताछ के बाद सीबीआई ने कुछ अहम तथ्य हाथ लगने की संभावना जताई थी. इस आवेदन के बाद अदालत ने सीबीआई को दोनों आरोपियों से जेल में पूछताछ करने की इजाजत दी थी. 29 से 31 जनवरी तक सीबीआई आरोपी राहुल वर्मा और लखन वर्मा से पूछताछ की, जिसकेबाद दोनों के खिलाफ हत्या करने व साक्ष्य छुपाने का आरोप गठित किया.

सीबीआई के अनुसंधान से कोर्ट नाराज
दरअसल दिल्ली सीबीआई की स्पेशल क्राइम ब्रांच ने जांच कर रही टीम में बड़ा बदलाव किया था. पूर्व में एडिशनल एसपी विजय शुक्ला के नेतृत्व में जज हत्याकांड की गुत्थी सुलझाने में जुटी थी, जिसकी जिम्मेवारी सीबीआई एसपी विकास कुमार को सौंपी गयी है. बता दें, जज हत्याकांड की लगातार सुनवाई हाईकोर्ट में चल रही है. सीबीआई के अनुसंधान से हाईकोर्ट में नाराजगी है. पिछली सुनवाई में सीबीआई को हाईकोर्ट ने फटकार भी लगाई थी.

मॉर्निंग वॉक के दौरान हुई थी हत्या
बता दें, 28 जुलाई 2021 को जिला एवं सत्र न्यायाधीश उत्तम आंनद हत्या कर दी गयी थी. मॉर्निंग वॉक के दौरान उन्हें एक ऑटो के द्वारा टक्कर मारी गई थी, जिससे उनकी मौत हो गयी थी. रणधीर वर्मा चौक पर लगे सीसीटीवी फुटेज सामने आने के बाद पुलिस अधिकारियों में खलबली मच गई थी. पहले इस मामले का अनुसंधान एसआईटी कर रही थी.उसके बाद सरकार की सिफारिश के बाद सीबीआई को अनुसंधान की जिम्मेवारी सौपी गई थी. 16 अगस्त 2021 को दोनों आरोपियों को अदालत की स्वीकृति के बाद गुजरात ले जाया गया था, जहां दोनों का नार्को और ब्रेन मैपिंग टेस्ट कराया गया था.

Tags: CBI investigation, Dhanbad judge murder case, Uttam anand

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर