बाबूलाल से मुलाकात के बाद बोले हेमंत- महागठबंधन में नहीं है कोई पेंच

हेमंत सोरेन ने कहा कि लोकसभा चुनाव से पहले फॉर्मूला तय हुआ था. उसी के मुताबिक विधानसभा चुनाव भी महागठबंधन के तहत लड़ा जाएगा. जिसका नेतृत्व जेएमएम करेगा.

News18 Jharkhand
Updated: September 5, 2019, 5:03 PM IST
बाबूलाल से मुलाकात के बाद बोले हेमंत- महागठबंधन में नहीं है कोई पेंच
धनबाद सर्किट हाउस में हेमंत सोरेन और बाबूलाल मरांडी में मुलाकात हुई
News18 Jharkhand
Updated: September 5, 2019, 5:03 PM IST
धनबाद सर्किट हाउस में जेवीएम सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी और जेएमएम के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन के बीच मुलाकात हुई. इस दौरान विधानसभा चुनाव को लेकर सीट शेयरिंग पर बातचीत हुई. मुलाकात के बाद बाबूलाल मारंडी ने कहा कि हम महागठबंधन के पक्ष में हैं, लेकिन सीट शेयरिंग पर फिलहाल कोई चर्चा नहीं हुई. वहीं हेमंत सोरेन ने कहा कि लोकसभा चुनाव से पहले फॉर्मूला तय हुआ था. उसी के मुताबिक विधानसभा चुनाव भी महागठबंधन के तहत लड़ा जाएगा. जिसका नेतृत्व जेएमएम करेगा. फिलहाल महागठबंधन में कोई पेंच नहीं है.

अभी तक नहीं हो पाई है सीट शेयरिंग

दरअसल लोकसभा चुनाव से पहले महागठबंधन ने ये फैसला लिया था कि सूबे में लोकसभा चुनाव कांग्रेस और विधानसभा चुनाव जेएमएम की अगुआई में लड़ा जाएगा. लेकिन लोकसभा चुनाव में बीजेपी के हाथों मिली करारी हार के बाद महागठबंधन अबतक विधानसभा चुनाव के लिए खुद को तैयार नहीं कर पाया है. सीट शेयरिंग को लेकर कवायद पिछले कई महीने से चल रही है. लेकिन नतीज कुछ भी नहीं निकला है. इस बीच जेएमएम, जेवीएम और कांग्रेस के बीच कई दौर की बैठकें हो चुकी हैं.

बदलाव यात्रा पर हैं हेमंत

इस सबके बीच विधानसभा चुनाव के मद्देनजर जेएमएम जमीन तैयार करने में जुट गया है. पूर्व सीएम हेमंत सोरेन फिलहाल बदलाव यात्रा पर हैं. वहीं कांग्रेस और जेवीएम में अभी विधानसभा चुनाव को लेकर कोई सरगर्मी नहीं देखी जा रही है. कांग्रेस ने अपने नये प्रदेश अध्यक्ष का ऐलान कर दिया है. अब सीट शेयरिंग पर बात आगे बढ़ सकती है. दूसरी ओर बीजेपी तैयारी से लेकर प्रचार- प्रसार तक में महागठबंधन से काफी आगे चल रही है.

आचार संहिता उल्लंघन मामले में बाबूलाल बरी

उधर, 2014 में लोकसभा चुनाव के दौरान आचार संहिता उल्लंघन के मामले में पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी धनबाद कोर्ट से बरी हो गये. कोर्ट ने साक्ष्य के अभाव में उन्हें बरी कर दिया. उनके अलावा पूर्व मंत्री सबा अहमद, विधायक ढुल्लू महतो के भाई शरद महतो, पूर्व प्रमुख रबीता देवी समेत कुल 10 आरोपियों को सबूत के अभाव में बरी कर दिया गया.
Loading...

इनपुट- अभिषेक कुमार

ये भी पढ़ें- एसपी कार्यालय पहुंचकर ग्रामीणों ने लगाई गुहार- हमें फादर से बचाओ

 

 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए धनबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 5, 2019, 5:02 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...