Jharkhand News: धनबाद में धमाके के साथ धसी जमीन, कोयला खनन कर रहे आधा दर्जन मजदूर दबे

कोयले की बंद खदान धंसने से उत्खनन कर रहे दर्जनों मजदूर फंस गये. (फाइल फोटो)

कोयले की बंद खदान धंसने से उत्खनन कर रहे दर्जनों मजदूर फंस गये. (फाइल फोटो)

धनबाद (Dhanbad) के कतरास थाना क्षेत्र में बंद खदान में तेज धमका हुआ और जमीन धस गई. इस घटना में अवैध तरीके से कोयला (Coal) उत्खनन कर रहे आधा दर्जन मजदूर दब गए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 26, 2021, 11:04 AM IST
  • Share this:
धनबाद. कोयलांचल के नाम से विख्‍यात धनबाद में कोयला (Coal) का काला कारोबार जारी है. इसके चलते दुर्घटनाओं में मजदूरों को अपनी जान तक गंवानी पड़ती है. कई बार दुर्घटना में मजदूर गंभीर रूप से घायल भी हो जाते है. अवैध कोयला उत्खनन में संलिप्‍त होने के कारण मजदूर खुल कर सामने भी नहीं आते हैं. आरोप है कि यह पूरा खेल पुलिस की मिलीभगत से चलता है.

ताजा मामला कतरास थाना क्षेत्र अंतर्गत ओरिएंटल माइंस आउटसोर्सिंग का है. यहां बंद खदान में तेज आवाज के साथ जमीन धस गई. जमीन धसने की घटना से भगदड़ मच गई. इस घटना में अवैध कोयला उत्खनन का कार्य कर रहे आधा दर्जन मजदूर दब गए. वहीं, आधा दर्जन अन्‍य मजदूरों के गम्भीर रूप से घायल होने की सूचना है. अवैध कोयला उत्खनन में लगे मजदूरों के अन्य साथियों द्वारा घायल मजदूरों को बाहर निकाला गया. घटना की जानकारी मिलने पर आसपास के स्थानीय ग्रामीण मौके पर पहुंचे और लोगों की मदद की. हालांकि, पुलिस, बीसीसीएल और आउटसोर्सिंग कंपनी के अधिकारी घटनास्थल पर नहीं पहुंचे.

धनबाद में कोयला उत्खनन के दौरान खदान धसने की यह पहली घटना नहीं है. जिले के पिछड़े इलाकों और ग्रामीण क्षेत्रों में चोरी छिपे कोयला उत्खनन करने और खदान में दबकर मजदूरों की मौत के कई मामले अब तक सामने आ चुके हैं. कोयले के अवैध खनन में शमिल लोगों के साथ समय-समय पर दुर्घटनाएं की खबरें सामने आती रहती हैं. सके बावजूद इस तरह की घटनाओं पर लगाम नहीं लग पा रहा है. बताया जाता है कि कोयले के काले धंधे का यह खेल पुलिस की मिलिभगत से होती है, ऐसे में इसे सामने आने से पहले ही दबा दिया जाता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज