धनबाद में लोगों ने धूमधाम से मनाया लोहड़ी का त्यौहार, पंजाबी गानों ने बांधा समा

धनबाद के शक्ति मंदिर में शनिवार को लोहड़ी त्योहार को लेकर विशेष पूजन का आयोजन किया गया. इस मौके पर सिख और अन्य समुदाय को लोगों ने जमकर लोहड़ी का जश्न मनाया. सिख समाज नई फसल आने की खुशी में हर वर्ष पूरे हर्षोल्लास के साथ लोहड़ी का त्यौहार मनाता है.

Bibhash Chandra | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: January 14, 2018, 7:09 AM IST
धनबाद में लोगों ने धूमधाम से मनाया लोहड़ी का त्यौहार, पंजाबी गानों ने बांधा समा
लोहड़ी का जश्न मनाते लोग
Bibhash Chandra | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: January 14, 2018, 7:09 AM IST
धनबाद के शक्ति मंदिर में शनिवार को लोहड़ी त्योहार को लेकर विशेष पूजन का आयोजन किया गया. इस मौके पर सिख और अन्य समुदाय को लोगों ने जमकर लोहड़ी का जश्न मनाया. सिख समाज नई फसल आने की खुशी में हर वर्ष पूरे हर्षोल्लास के साथ लोहड़ी का त्यौहार मनाता है. विशेष रूप से पंजाब में मनाई जाने वाली लोहड़ी के पर्व की कोयलांचल में भी धूम रहती है.

लोहड़ी के कार्यक्रम में पंजाबी समाज के लोगों के साथ यंहा सभी लोग जात-पात मजहब-धर्म को भूलकर एक साथ आपसी सोहार्द से लोहड़ी के गीतों पर थिरकते नजर आए. इस मौके पर सांसद पीएन सिंह, विधायक राज सिन्हा के साथ पूर्व मंत्री मन्नान मल्लिक भी शामिल हुए .

लोहड़ी में लकड़ियों के ढेर पर सूखे उपले रख कर जलाए जाते हैं. उसकी पूजा करने के बाद उसमें तिल, गुड़, रेवड़ी, एवं मूंगफली का भोग लगाया जाता है. मस्ती से भरे इस पर्व पर लोग ढोल की थाप पर नाचते आए वहीं महिलाएं गिद्दा करती नजर आई.

शक्ति मंदिर में इस साल लोहड़ी की विशेष तैयारी की गई है. सिख समुदाय का ऐसा मानना है कि अग्नि में जो कुछ भी डाला जाता है वह उनके पितरों तक पहुंच जाता है. इस कारण लोग अपने पूरे परिवार से साथ अग्नि की परिक्रमा करते है और नई फसल की पूजा कर उसके दाने अग्नि में डालते हैं. इसके अलावा वह आने वाले साल के लिए अच्छी फसल की दुआ मांगते हैं.

 
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर