होम /न्यूज /झारखंड /पूर्व मुख्यमंत्री मरांडी का कहना, 'भूमि अधिग्रहण अध्यादेश नहीं लागू होने देंगे'

पूर्व मुख्यमंत्री मरांडी का कहना, 'भूमि अधिग्रहण अध्यादेश नहीं लागू होने देंगे'

झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और झाविमो सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी ने बुधवार को यहां भाजपा व केंद्र-राज्य सरकारों पर जम कर निशाना साधा और जनता से एकजुट होकर विरोध का आह्वान किया.

झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और झाविमो सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी ने बुधवार को यहां भाजपा व केंद्र-राज्य सरकारों पर जम कर निशाना साधा और जनता से एकजुट होकर विरोध का आह्वान किया.

झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और झाविमो सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी ने बुधवार को यहां भाजपा व केंद्र-राज्य सरकारों पर जम कर न ...अधिक पढ़ें

  • News18
  • Last Updated :

    झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और झाविमो सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी ने बुधवार को यहां भाजपा व केंद्र-राज्य सरकारों पर जम कर निशाना साधा और जनता से एकजुट होकर विरोध का आह्वान किया.

    न्याय यात्रा के तीसरे चरण में वह यहां गांधी सेवा सदन में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित कर रहे थे. इसके पहले बाबूलाल के नेतृत्व में डीआरएम चौक से रणधीर वर्मा चौक तक न्याय यात्र निकाली गयी.
    सरकार गरीब विरोधी
    झाविमो सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी ने कहा कि भाजपा संविधान व कानून विरोधी. केंद्र व झारखंड सरकार गरीब व किसान विरोधी. सरकार का कार्य आम लोगों के खिलाफ है. केंद्र व राज्य की सरकारें जनता के साथ अन्याय कर संविधान की अनदेखी कर रही है.

    गरीब व किसानों की जमीन व घर छीनने की तैयारी है. भूमि अधिग्रहण अध्यादेश किसानों के खिलाफ है. झारखंड में इस कानून को लागू नहीं होने दिया जायेगा.

    वह उद्योग विरोधी नहीं हैं, लेकिन भूमि अधिग्रहण कानून का वर्तमान स्वरूप आम लोग व किसानों के हित में नहीं है. डीवीसी कोल इंडिया के लिए जिनकी जमीन अधिग्रहण किया गया, उसके विस्थापित लोग आज भी भटक रहे हैं.

    हजारों रैयतों को न नौकरी मिली न ही मुआवजा. कृषि योग्य जमीन का अधिग्रहण नहीं होना चाहिए. अगर अति आवश्यक हो तो पहले संबंधित किसानों का पुनर्वास व रोजगार के साधन उपलब्ध कराने के बाद ही जमीन का अधिग्रहण किया जाना चाहिए.
    स्थानीय नीति बने
    झारखंड में स्थानीय नीति व नियोजन नीति बननी चाहिए. नियोजन नीति जब तक नहीं बन जाती है, नियुक्ति प्रक्रिया नहीं होनी चाहिए.

    इससे झारखंड के लोगों का हक छीना जा रहा है. झारखंड की सत्ता बाहरियों के हाथ हैं, वे लोग पांच साल बाद हट सकते हैं.

    लेकिन एक बार किसी को नियोजन मिल गया तो वह 30-40 वर्षो तक नौकरी करेगा. संविधान में भी प्रावधान है कि नियोजन में स्थानीय लोगों को प्राथमिकता मिलनी चाहिए.

    आप hindi.news18.com की खबरें पढ़ने के लिए हमें फेसबुक और टि्वटर पर फॉलो कर सकते हैं.

    Tags: Babulal marandi

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें