लाइव टीवी

धनबाद PMCH में हर साल 5 सौ से ज्यादा बच्चों की होती है मौत, MCI उठा चुकी है सवाल

News18 Jharkhand
Updated: January 15, 2020, 3:25 PM IST
धनबाद PMCH में हर साल 5 सौ से ज्यादा बच्चों की होती है मौत, MCI उठा चुकी है सवाल
धनबाद पीएमसीएच में हर साल 5 सौ से ज्यादा बच्चों की मौत हो जाती है. (फाइल फोटो)

पीएमसीएच के अधीक्षक अरुण कुमार चौधरी के अनुसार शिशु वार्ड में हर साल औसतन 5 से 6 हजार बच्चे भर्ती होते हैं. इनमें से 5 से 6 सौ बच्चों की अलग-अलग कारणों से मौत हो जाती है. ज्यादातर रेफर किये हुए या गंभीर संक्रमण के शिकार बच्चों की मौत होती है.

  • Share this:
धनबाद. झारखंड का तीसरा सबसे बड़ा सरकारी अस्पताल धनबाद के पीएमसीएच (Dhanbad PMCH) में हर साल अलग-अलग कारणों से करीब 5 सौ से ज्यादा बच्चों की मौत (Children Death) हो जाती है. यहां तक की पीएमसीएच के शिशु वार्ड की व्यवस्था पर एमसीआई (MCI) भी सवाल उठा चुकी है. अस्पताल के नियोनेटल इंटेंसिव केयर यूनिट (नीकू) और सर्जिकल इंटेंसिव केयर यूनिट (सीकू) में सालाना छह फीसदी बच्चों की मौत चिंता का विषय है. इन वार्डो में हर दिन औसतन एक बच्चे की मौत हो जाती है.

शिशु विभाग में 10 के बदले 6 डॉक्टर हैं

धनबाद का पीएमसीएच पहले से ही डॉक्टरों व संसाधन की कमी से जूझ रहा है. अस्पताल के शिशु विभाग में डॉक्टर के 10 पद हैं, लेकिन मात्र छह डॉक्टर से काम चल रहा है. इन्हीं के सहारे ओपीडी व इंडोर चलता है. रात में शिशु विभाग नर्सो के भरोसे होता है. कई बार बच्चों की संख्या अधिक होने पर एक ही बेबी वार्मर से दो बच्चों का काम चलता है.

धनबाद पीएमसीएच में गिरिडीह, जामताड़ा, देवघर और बोकारो से रेफर होने वाले बच्चे भर्ती होते हैं. जानकारी के मुताबिक साल 2016 में पीएमसीएच के शिशु वार्ड में सेंट्रलाइज्ड ऑक्सिजन गैस पाइप लाइन लगाने के लिए सरकार ने 10 करोड़ रुपया आवंटित किया था. लेकिन अबतक इस पर अमल नहीं हुआ है. एमसीआई की टीम इसको लेकर सवाल उठा चुकी है.

जल्द होगी सेंट्रलाइज्ड ऑक्सिजन गैस पाइप लाइन की व्यवस्था

पीएमसीएच के अधीक्षक अरुण कुमार चौधरी के अनुसार शिशु वार्ड में हर साल औसतन 5 से 6 हजार बच्चे भर्ती होते हैं. इनमें से 5 से 6 सौ बच्चों की अलग-अलग कारणों से मौत हो जाती है. ज्यादातर रेफर किये हुए या गंभीर संक्रमण के शिकार बच्चों की मौत होती है. सेंट्रलाइज्ड ऑक्सिजन गैस पाइप को लेकर उन्होंने कहा कि इसको लेकर टेंडर जारी कर दिया गया है. तीन माह के अंदर इसकी आपूर्ति शुरू हो जाएगी.

रिपोर्ट- अभिषेक कुमारये भी पढ़ें- खबर का असर: बच्चों की मौत पर जागा रिम्स प्रशासन, शिशु वार्ड में बढ़ेंगे बेड व बेबी वार्मर 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए धनबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 15, 2020, 3:24 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर