होम /न्यूज /झारखंड /रिवॉल्वर दिखाकर मुखिया पति का अपहरण; फिर बेरहमी से पिटाई, बाबू लाल मरांडी ने शेयर किया वीडियो

रिवॉल्वर दिखाकर मुखिया पति का अपहरण; फिर बेरहमी से पिटाई, बाबू लाल मरांडी ने शेयर किया वीडियो

धनबाद में मासस कार्यकर्ताओं द्वारा मुखिया पति की बेरहमी से पिटाई (News18)

धनबाद में मासस कार्यकर्ताओं द्वारा मुखिया पति की बेरहमी से पिटाई (News18)

Jharkhand Crime: वायरल वीडियो में 4 से 5 लोग बेरहमी से मुखिया पति की पिटाई कर रहे थे. अब इस मामले ने राजनीतिक रंग ले लि ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

मासस कार्यकर्ताओं द्वारा मुखिया पति की बेरहमी से पिटाई का आरोप.
पिटाई का वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हुआ, कार्रवाई की मांग.
BJP नेता व पूर्व सीएम बाबू लाल मरांडी ने ट्वीट किया वायरल वीडियो.

रिपोर्टर नाम- संजय गुप्ता
धनबाद: जिले का एक वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था. इसमें 4 से 5 लोग बेरहमी से मुखिया पति की पिटाई कर रहे थे. अब इस मामले ने अब राजनीतिक तूल पकड़ लिया है. इस मामले में पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी ने वीडियो शेयर किया है और ट्वीट कर अपनी प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने ट्वीट में डीजीपी और कोल इंडिया चैयरमैन को टैग कर पिटाई करनेवाले आरोपियों पर जल्द से जल्द कार्रवाई करने की मांग की है.

वहीं, निरसा की भाजपा विधायक अपर्णा सेन गुप्ता ने मासस कार्यकर्ताओं की गुंडागर्दी चरम पर होने की बात कही. साथ ही पूर्व निरसा मासस विधायक अरूप चटर्जी ने भी घटना की निंदा की और पुलिस से उचित जांच और कार्रवाई करने की मांग की. दूसरी ओर पीड़ित मुखिया पति स्वपन नाग और मुखिया शिखा नाग न्याय की गुहार लगा रहे हैं.

पैसा वापस करने में आनाकानी
वायरल वीडियो में मुखिया पति स्वपन नाग को बेहरमी से पीटने का आरोप मासस कार्यकर्ता रामजी यादव, ईसीएल कर्मी रोशन मिश्रा सहित अन्य पर लगाया गया है. मासस के पतलाबाड़ी कार्यालय में पिटाई की गई हैं. बेहरमी से पिटाई करने का कारण बताया जा रहा है कि मुखिया पति ने रेलवे में नोकरी के नाम पर पंचत ओपी अंतर्गत बेलडंगा निवासी धीरज साव से लाखों की ठगी की है. मुखिया पति के द्वारा पैसा वापस करने को लेकर आनाकानी की जा रही थी.

तटबंध टूटा तो आएगी बड़ी तबाही! नेपाल में भारी बारिश से गंडक में उफान, गोपालगंज में ऊंची जगह खोज रहे लोग

पत्नी के साथ भी मारपीट
मुखिया ने अपने में बयान बताया, सुबह में मैं और मेरी पत्नी मुखिया शिखा नाग किसी काम से एगयरकुण्ड प्रखंड कार्यालय जा रहे थे. प्रखंड कार्यालय से कुछ दूरी पर एक सफेद कार आई जिसमें मासस के रामजी यादव एवं रोशन मिश्रा आए तथा पूछा कि मुखिया जी, मैंने जैसे ही हां में जवाब दिया उनलोगों ने मुझपर हमला कर दिया. मेरी पत्नी बीच बचाव करने पहुंची तो उन लोगों द्वारा उसके साथ मारपीट एवं छेड़छाड़ की गई. मुझे प्रखंड कार्यालय के समीप से रिवाल्वर दिखाकर अगवा कर मासस कार्यालय पतलाबाड़ी ले जाया गया. जहां पहले से मौजूद चार पांच अन्य लोगों द्वारा मुझे बेरहमी से मारा गया. इसमें मेरे बाएं हाथ के तीन टुकड़े हो गए एवं सिर तथा बदन पर गंभीर चोटें आईं है. पंचेत पुलिस की तत्परता के कारण मेरी जान बच गई अन्यथा उन लोगों ने  मुझे मार देने का पूरा इंतजाम कर रखा था.

थर्ड डिग्री जैसा ट्रीटमेंट
मुखिया ने बताया कि वे लोग मेरी किडनी निकालने की भी बात किसी से फोन पर कर रहे थे. इसे लेकर मेरे शरीर का ब्लड सैंपल भी लिया गया. उनलोगों द्वारा मेरे साथ थर्ड डिग्री जैसा ट्रीटमेंट किया गया. गर्म चाय मेरे शरीर पर फेंकी गई और वे लोग मुझसे रुपये की मांग कर रहे थे. जबरन उन लोगों ने मेरे घर फोन लगाकर मेरी बात करवाई. जिसमें जमीन के कागजात एवं पैसे लाने को कहा गया. इससे पहले की वे सब मेरे साथ कुछ अनहोनी करते उसके पहले जिप सदस्य गुलाम कुरैशी द्वारा एसडीपीओ पितांबर सिंह खेरवार को इसकी जानकारी दी गई. जिसके बाद पंचेत पुलिस भगवान बनकर ठीक मौके पर पहुंच गई. और मुझे उन दरिंदों से बचा लिया.

कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए
उन्होंने पुलिस प्रशासन से मांग की जिस प्रकार से मेरे साथ जो घटना घटी है. उसपर सख्त कार्रवाई होनी चाहिए ताकि ऐसे करने वाले लोगों को इसका सबक मिल सके. वहीं मुखिया शिखा नाग ने कहा कि एक मुखिया और उसका परिवार सुरक्षित नहीं है तो आम लोगों का क्या होगा. जो दोषी हैं उनके साथ कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए.

प्रशासन से मदद लेनी चाहिए
निरसा विधायक अपर्णा सेन गुप्ता ने कहा कि मासस की गुंडागर्दी क्षेत्र में चरम पर हैं अगर प्रशासन दोषी व्यक्ति पर अविलंब कार्रवाई नहीं करती हैं तो हम सड़क पर उतरने के लिए बाध्य होंगे. वहीं इस मुद्दे पर पूर्व विधायक अरूप चटर्जी ने कहा कि यह घटना दुर्भाग्यपूर्ण है. एक व्यक्ति को इस तरह बंद कमरे में पीटना गलत है. अगर लेन देन की बात है तो प्रशासन से मदद लेनी चाहिए थी. दोनों पक्षों द्वारा लिखित आवेदन दिया गया है इस पर प्रशासन निष्पक्ष जांच करे.

Tags: Dhanbad news, Jharkhand news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें