News18 Impact : इंटरनेशनल फुटबॉलर संगीता को कांग्रेस ने दी मदद, खिलाड़ी ने कहा 'स्थायी सहयोग दिया जाए'

न्यूज़18 की खबर का असर.

न्यूज़18 की खबर का असर.

न्यूज़18 की खबर का असर : चैनल और वेबसाइट ने जिस तरह प्रमुखता से इंटरनेशनल फुटबॉलर की कठिन ज़िंदगी से जुड़ा कवरेज किया, उसका असर यह हुआ कि अब संगीता के लिए सहयोग के कई रास्ते खुले.

  • Share this:

संजय गुप्ता

धनबाद. अंतर्राष्ट्रीय स्तर की फुटबॉल खिलाड़ी संगीता सोरेन की गरीबी और मजबूरी की ज़िंदगी की कहानी को जब न्यूज़18 हिंदी और न्यूज़18 बिहार झारखंड ने प्रमुखता से सुर्खियां दीं, तो खबर का असर हुआ और संगीता की मदद के लिए लगातार हाथ बढ़े. सरकार के बाद अब जनप्रतिनिधि व स्थानिय नेता भी मदद करने के लिए सामने आ रहे हैं. मुख्यमंत्री और खेल मंत्रालय के द्वारा पहले ही संगीता की मदद संबंधी ऐलान किए जा चुके हैं और अब संगीता की मदद के लिए झारखंड कांग्रेस के नेता रणविजय सिंह ने आर्थिक सहयोग किया. यही नहीं, सिंह ने आश्वासन भी दिया कि संगीता के लिए हर संभव मदद भविष्य में भी जुटाई जाएगी. लेकिन, यह अस्थायी मदद संगीता के लिए कितनी मददगार है?

संगीता ने न्यूज़18 के साथ बातचीत करते हुए साफ तौर पर माना कि न्यूज़18 ने जिस तरह से उसकी बदहाली का मुद्दा उठाया, उसके बाद उन्हें काफी सहयोग मिला. हालांकि अब भी संगीता का कहना है कि इस अस्थायी मदद से बहुत मदद उन्हें नहीं मिलेगी क्योंकि राशि तो हमेशा साथ नहीं रहती. वह अपने खेल, करियर और जीवन के लिए किसी तरह की स्थायी मदद के लिए गुहार लगी रही हैं.

ये भी पढ़ें : फुटबॉलर संगीता ईंट भट्टे पर काम करने को मजबूर, महिला आयोग ने मुख्य सचिव को लिखा पत्र

Youtube Video

कांग्रेस ने साधा रघुवर सरकार पर निशाना

इधर, संगीता को 51 हज़ार रुपये का चेक देकर आर्थिक मदद करने वाले रणविजय सिंह ने पिछली रघुवर दास सरकार को आड़े हाथों लिया. उन्होंने कहा कि बीजेपी कहती है कि बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ, लेकिन हकीकत यह है कि 'राज्य में भाजपा सरकार जब थी, तो एक प्रतिभवान बेटी के लिए कुछ कर नही सकी'. सिंह ने कहा 'सरकार बदली है. अब यूपीए की सरकार में संगीता को भरपूर सहयोग दिया जाएगा. मुख्यमंत्री और खेल मंत्री से बातचीत कर सरकारी सुविधा और नौकरी दिलाने की पूरी कोशिश की जाएगी.'



संगीता को सरकारी नौकरी की आस

कांग्रेस द्वारा दी गई इस मदद को स्वीकार करने के बाद संगीता ने कहा कि यह सहयोग अगर स्थायी होता तो ज्यादा अच्छा होता. संगीता ने बताया कि सरकार ने सरकारी नोकरी दिए जाने का आश्वासन दिया था, जिसका वह अब भी इंतज़ार कर रही हैं. दूसरी तरफ, संगीता ने कहा 'मैं न्यूज़ 18 को विशेष रूप से धन्यवाद देती हूं कि सबसे पहले मेरी कठिनाई भरी जिंदगी को सरकार और आम लोगों तक पहुंचाने का काम किया.'

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज