लाइव टीवी

एक शव के दो दावेदार, गिरिडीह पुलिस ने पांच मिनट में ऐसे सुलझायी गुत्थी!
Dhanbad News in Hindi

News18 Jharkhand
Updated: September 3, 2018, 9:39 PM IST
एक शव के दो दावेदार, गिरिडीह पुलिस ने पांच मिनट में ऐसे सुलझायी गुत्थी!
एक शव के दो दावेदार

धनबाद पीएमसीएच की पोस्टमार्टम भी नहीं बता पायी की शव हिन्दू का है या मुस्लिम का है. आखिरकार खतना ने शव के मुसलमान होने का प्रमाण दिया.

  • Share this:
धनबाद पीएमसीएच में एक अजीबोगरीब मामला सामने आया, जहां एक शव की दावेदारी करने दो परिवार पहुंच गये. एक हिंदू परिवार था तो दूसरा मुस्लिम परिवार. पूरे मामले को लेकर तीन दिन तक शव का अंतिम संस्कार रुका रहा. इस दौरान धनबाद पुलिस परेशान रही. जब गिरिडीह पुलिस मौके पर पहुंची तो महज 5 मिनट में शव किसका है, यह फैसला हो गया.

घटना धनबाद के पाटिलीपुत्र मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल की है. यहां एक शव को लेकर दो दिन से किचकिच चल रही थी. शव को प्राप्त कर अंतिम संस्कार करने के लिए दोनों परिवार आपस में भिड़ते रहे. गिरिडीह जिले के रहने वाले वृद्ध बाल किशन शर्मा ने अपने बेटे का शव बताकर दावा ठोंक रखा था. जबकि इसी शव पर उत्तर प्रदेश के गोंडा निवासी जब्बार अली का भी दावा था. उसका कहना है कि शव उसके बेटे जुमारती का है. पहले पुलिस शव को जब्बार को सौंप भी चुकी थी. वह बेटे का शव लेकर निकल भी चुका था. लेकिन बाल किशन शर्मा के दावे के बाद विवाद खड़ा हो गया और शव को ले जा रहे एंबुलेंस को हजारीबाग के गोरहर से वापस धनबाद बुलाया गया.

पुलिस-प्रशासन भी नहीं तय कर पा रहा है कि शव मुस्लिम परिवार के बेटे का है या हिंदू परिवार के बेटे का. अंतिम संस्कार के लिए किसे सुपुर्द किया जाय. शव का अंतिम संस्कार मुस्लिम रीति-रिवाज से हो या हिंदू से. धनबाद पुलिस निर्णय नहीं कर पाई कि शव किसका है. कोई संतोष के रूप में शव की पहचान कर रहा था, तो कोई जुमराती के रूप में.

जब्बार ने अपना पता यूपी के गोंडा जिला स्थित देहात कोतवाली के टिकरीमा गांव बताया था. आखिरकार धनबाद पुलिस ने पूरी माथा-पच्ची से बचने के लिए गिरिडीह पुलिस को बुलाकर जांच सौंप दी. चूंकि गिरिडीह में सड़क दुर्घटना में घायल होने के बाद इस व्यक्ति को पीएमसीएच में भर्ती कराया गया था. गिरिडीह के निमियाघाट थाना क्षेत्र में जीटी रोड पर चार दिन पहले सड़क दुर्घटना के दौरान घायल युवक को पुलिस ने इलाज के लिए पीएमसीएच में भर्ती कराया था. इलाज के दौरान युवक की मृत्यु हो गई. इसके बाद सोशल मीडिया पर अपने परिजन की तस्वीर देख दोनों परिवार पहुंचे मगर शव किसका है इसको लेकर विवाद शुरू हो गया. धनबाद पुलिस ने थकहार कर डीएनए जांच के बाद फैसले की बात कही. शव को गिरिडीह के निमियाघाट पुलिस के सुपुर्द कर दिया.



गिरिडीह के निमियाघाट पुलिस ने धनबाद पीएमसीएच पहुंचते ही धनबाद पुलिस और दोनों परिवार के लिए सिरदर्द बने मामले को मिनटों में सुलझा दिया. गिरिडीह पुलिस ने दोनों परिवारों से बात कर डीएनए जांच में समय लगने का हवाला देकर इस बात पर सहमति बनवा ली कि लिंग परीक्षण कर यह तय किया जा सकता है कि शव हिन्दू का है या मुस्लिम का. दोनों परिवार इस बात पर राजी भी हो गए कि अगर शव के लिंग का खतना किया हुआ होगा तो मुस्लिम परिवार ले जाएंगे और अगर नहीं होगा तो शव को हिंदू परिवार को सौंप दिया जाएगा.

धनबाद पीएमसीएच की पोस्टमार्टम भी नहीं बता पायी की शव हिन्दू का है या मुस्लिम का है. आखिरकार खतना ने शव के मुसलमान होने का प्रमाण दिया. यह छोटा सा परीक्षण अगर धनबाद पुलिस पहले करा लेती तो दोनों परिवारों को इतनी परेशानी नहीं उठानी पड़ती. फिलहाल शव को मुस्लिम रीति-रिवाज से अंतिम संस्कार के लिए परिजन लेकर चले गये.

(धनबाद से बिभाष चन्द्र की रिपोर्ट)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए धनबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 3, 2018, 5:44 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

भारत

  • एक्टिव केस

    5,095

     
  • कुल केस

    5,734

     
  • ठीक हुए

    472

     
  • मृत्यु

    166

     
स्रोत: स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार
अपडेटेड: April 09 (08:00 AM)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर

दुनिया

  • एक्टिव केस

    1,099,679

     
  • कुल केस

    1,518,773

    +813
  • ठीक हुए

    330,589

     
  • मृत्यु

    88,505

    +50
स्रोत: जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी, U.S. (www.jhu.edu)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर