पेट्रोल पंप मालिक ने खुद को गोली मारकर की खुदकुशी, 7 करोड़ रुपये को लेकर थे परेशान
Dhanbad News in Hindi

पेट्रोल पंप मालिक ने खुद को गोली मारकर की खुदकुशी, 7 करोड़ रुपये को लेकर थे परेशान
राकेश ग्रोवर पिछले कुछ दिनों से मानसिक तवान में थे

सिन्दरी एसडीपीओ ने बताया कि राकेश ग्रोवर ने अपने लाइसेंसी पिस्टल से खुद को गोली मार ली. जिसके बाद उनकी मौके पर ही मौत हो गई. आत्महत्या (Suicide) के कारणों की जांच चल रही है.

  • Share this:
धनबाद. प्रसिद्ध व्यवसायी (Businessman) राकेश ग्रोवर ने गोली मारकर आत्महत्या (Suicide) कर ली. कारोबारी ने अपने सिर में गोली मारी है. आत्महत्या की वजह मानसिक तनाव (Mental Stress) बताया गया है. राकेश ग्रोवर मंगलवार शाम को बलियापुर स्थित अपने पेट्रोल पंप के कार्यालय में मौजूद थे. इसी दौरान उन्होंने खुद को गोली मार ली.

सिन्दरी एसडीपीओ ने बताया कि राकेश ग्रोवर ने अपने लाइसेंसी पिस्टल से खुद को गोली मार ली. जिसके बाद उनकी मौके पर ही मौत हो गई. चुनाव को लेकर उन्हें पिस्टल को जमा कराने का नोटिस भेजा गया था. लेकिन जमा नहीं करवाए थे. आत्महत्या के कारणों की जांच चल रही है.

मृतक के पार्टनर आलोक अग्रवाल ने बताया कि गोली चलने की आवाज सुनकर पंप के कर्मचारी कार्यालय की तरफ दौड़े. कार्यालय अंदर से बंद था. दरवाजा तोड़कर कर्मी अंदर दाखिल हुए तो राकेश को खून से लथपथ पाया. आनन- फानन में उन्हें पीएमसीएच ले जाया गया, जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.



करीबी दोस्त समीम वकील के मुताबिक, पैसे को लेकर राकेश ग्रोवर डिप्रेशन में थे. नेशनल बिल्डिंग कंस्ट्रक्शन कॉरपोरेशन (एनबीसीसी) के पास कंस्ट्रक्शन वर्क की मद में करीब 7 करोड़ 92 लाख रुपए बकाया था. पिछले एक साल से अपने बकाया पैसे के लिए धनबाद से दिल्ली भाग दौड़ कर रहे थे. कंपनी के ऊपर केस भी कर रखा था.
धनबाद कोर्ट में मामला खारिज होने के बाद राकेश ग्रोवर ने इस सिलसिले में हाईकोर्ट में अपील दायर कर रखी थी. इस बीच कंपनी के दिल्ली हेडऑफिस में भी आना-जाना कर रहे थे. कंपनी के सीएमडी पर लगातार बकाया राशि के भुगतान को लेकर दबाव बनाए हुए थे. मंगलवार को वो दिल्ली से धनबाद लौटे थे.

(रिपोर्ट- विभाष चंद्र)

ये भी पढ़ें- आयकर अधिवक्ता के घर से 40 लाख की ज्वेलरी लेकर भागा था नौकर, महाराष्ट्र पुलिस ने दबोचा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज