• Home
  • »
  • News
  • »
  • jharkhand
  • »
  • Dhanbad Judge Murder: 7 घंटे बैठक के बाद पुलिस ने साधी चुप्पी, आरोपियों के कॉल डिटेल्स खंगाले

Dhanbad Judge Murder: 7 घंटे बैठक के बाद पुलिस ने साधी चुप्पी, आरोपियों के कॉल डिटेल्स खंगाले

झारखंड एसआईटी के सामने पेश किए गए धनबाद जज हत्याकांड के आरोपी.

झारखंड एसआईटी के सामने पेश किए गए धनबाद जज हत्याकांड के आरोपी.

झारखंड के धनबाद में सेशन जज के चर्चित हत्याकांड में एसआईटी ने ताबड़तोड़ बैठक की, जिसमें राज्य के आला पुलिस पुलिस अफसर मौजूद थे. बैठक में दोनों आरोपियों से एसआईटी टीम ने घंटों तक पूछताछ की और मीडिया के सवालों का जवाब नहीं दिया.

  • Share this:

    संजय गुप्ता
    धनबाद. ज़िला एवं सत्र न्यायाधीश उत्तम आनंद हत्याकांड में एसएसपी दफ्तर में एसआईटी टीम की मैराथन बैठक चली, लेकिन इसके बाद पुलिस मीडिया से कतराती नज़र आई. मीडिया के सवालों का जवाब देने से परहेज़ कर रही पुलिस ने सिर्फ यही कहा कि जांच के इस मोड़ पर डिटेल्स शेयर नहीं किए जा सकते. इधर, हाई प्रोफाइल क्रिमिनल केसों की सुनवाई कर रहे जज आनंद की हत्या के मामले में जिन दो आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है, उनके सत्यापन के लिए पुलिस कोई कसर न छोड़ते हुए मोबाइल फोन डिटेल्स से लेकर दोनों के संपर्कों को खंगाल रही है.

    एसएसपी कार्यालय में एसआईटी टीम की बैठक शुक्रवार सुबह 10 बजे से शुरू हुई, जो 7 घंटे से ज़्यादा चली. एडीजी संजय लाटकर के नेतृत्व में एसआईटी टीम की बैठक में आईजी प्रिया दुबे, डीआईजी मयूर पटेल, एसएसपी संजीव कुमार सहित ज़िले के अन्य पुलिस पदाधिकारी मौजूद रहे. इस बैठक में गिरिडीह से गिरफ्तार दोनों आरोपियों लखन वर्मा और राहुल वर्मा से एसएसपी कार्यालय में एसआईटी की टीम ने पूछताछ की. इस बैठक से मीडिया को दूर रखा गया लेकिन इतने अफसरों की मौजूदगी साफ संकेत है कि जांच अहम मोड़ पर है.

    ये भी पढ़ें : Dhanbad Judge Murder: झारखंड के वकील आज नहीं करेंगे काम, पुलिस मार रही छापे, हत्याकांड की 10 बड़ी बातें

    पुलिस ने नहीं दिए मीडिया को जवाब
    आला अफसरों की इतनी लंबी बैठक के बाद मीडिया के सवालों पर पुलिस बचती नज़र आई. एसएसपी संजीव कुमार ने हर सवाल के जवाब में यही कहा कि सभी बिंदुओं पर जांच चल रही है और शेयर करने लायक अपडेट मिलने पर बताया जाएगा. बता दें कि मकतूल जज आनंद चर्चित रंजय हत्याकांड की सुनवाई कर रहे थे इसलिए शक की सुई इस कांड के आरोपी शूटर और गैंगस्टर अमन सिंह की तरफ जा रही है. हालांकि एसएसपी ने इस सवाल का जवाब भी नहीं दिया कि क्या एसआईटी जांच अमन सिंह एंगल पर हो रही है.

    jharkhand news, jharkhand judge murder case, dhanbad murder case, jharkhand judge, झारखंड न्यूज़, झारखंड जज हत्याकांड, धनबाद जज हत्याकांड

    मीडिया के साथ जज हत्याकांड की जांच के डिटेल्स शेयर करने से कतराए एसएसपी संजीव कुमार.

    कॉल​ डिटेल्स और लिंक्स की जांच शुरू
    जज आनंद को जिस ऑटो ने टक्कर मारी थी, उसके चालक लखन वर्मा और सहयोगी राहुल वर्मा के बयानों का सत्यापन शुरू कर दिया गया है. रांची एसआईटी ने सबसे पहले दोनों के पिछले 10 दिनों के मोबाइल कॉल डिटेल्स खंगाले. जितने नाम इन डिटेल्स में सामने आए हैं, उन सभी से पूछताछ करने का आदेश जिला एसआईटी को दिया गया है. इसके अलावा, लखन वर्मा ने स्टेशन रोड पर जिस होटल में बैठकर शराब पीने की बात पुलिस को बताई, उस होटल संचालक और शराब दुकानदार से भी पूछताछ करने के निर्देश हैं. इधर, ज़िला एसआईटी टीम में तकरीबन एक दर्जन नए सब इंस्पेक्टरों को शामिल किया गया है.

    अब तक केस के खास पॉइंट्स
    बुधवार सुबह जज आनंद को मॉर्निंग वॉक के दौरान एक ऑटो ने टक्कर मारी तो वारदात सीसीटीवी में कैद हुई. पुलिस ने मामले में धारा 302 के तहत मुकदमा दर्ज किया. फॉरेंसिक टीम ने घटनास्थल से सबूत और सैंपल जुटाए. पोस्टमार्टम रिपोर्ट अब तक मृतक जज के परिजनों को नहीं दी गई है. वहीं, इस मामले में सुप्रीम कोर्ट, हाई कोर्ट ने संज्ञान लेकर सख्त जांच के निर्देश दिए. गौरतलब है कि जज आनंद ने हाल में शूटर अमन सिंह की जमानत अपील खारिज की थी. जज आनंद अन्य आपराधिक मामलों की भी सुनवाई कर रहे थे.

    ये भी पढ़ें : Dhanbad Judge Murder: दो आरोपियों को 5 दिन की पुलिस रिमांड, शक की सुई अपहरण गैंग की तरफ

    गुमला में वकील हुए लामबंद
    जज आनंद हत्याकांड से पूरे झारखंड के वकीलों में नाराज़गी है. न्यूज़18 के गुमला संवाददाता रूपेश कुमार भगत के अनुसार उपायुक्त शिशिर कुमार सिन्हा को ज्ञापन के माध्यम से गुमला के अधिवक्ता संघ ने कहा कि वकील असुरक्षित महसूस कर रहे हैं. 27 जुलाई को तमाड़ में राज्य के अधिवक्ता संघ के अधिकारी मनोज झा की हत्या के बाद 29 जुलाई को धनबाद में जज हत्याकांड ने वकीलों के बीच खौफ पैदा किया है. ज़िला अधिवक्ता संघ ने मृतकों के परिजनों को सरकारी नौकरी, मुआवज़े के साथ ही सीएम हेमंत सोरेन के नाम ज्ञापन सौंपकर एडवोकेट प्रोटेक्शन एक्ट लागू करने की मांग की.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज