Lockdown को लेकर और सख्ती, धनबाद में शाम 7 से सुबह 7 बजे तक निषेधाज्ञा लागू
Dhanbad News in Hindi

Lockdown को लेकर और सख्ती, धनबाद में शाम 7 से सुबह 7 बजे तक निषेधाज्ञा लागू
धनबाद में शाम 7 से सुबह 7 बजे तक के लिए निषेधाज्ञा लागू की गयी है

Prohibitory Orders: अनुमंडल दंडाधिकारी ने कहा कि इस अवधि में पांच या पांच से अधिक व्यक्ति एक स्थान पर एकत्रित नहीं हो सकेंगे और ना ही नाजायज मजमा लगाएंगे.

  • Share this:
धनबाद. कोविड-19 (Covid-19) से बचाव, रोकथाम एवं इसके संभावित प्रसार को रोकने के लिए धनबाद में धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा (Prohibitory Orders) लगाया गया है. अनुमंडल दंडाधिकारी राज महेश्वरम ने तत्काल प्रभाव से अगले आदेश तक शाम 7:00 बजे से सुबह 7:00 बजे तक निषेधाज्ञा लगाने का ऐलान किया. हालांकि आवश्यक सेवा प्रदान करने वाले कार्यालय और प्रतिष्ठान इस प्रतिबंध से बाहर रहेंगे. इस अवधि में सभी नागरिक अपने घर में ही रहेंगे. बुनियादी आवश्यकता की पूर्ति के क्रम में बाहर जाने पर सामाजिक दूरी के दिशा निर्देशों का कड़ाई से अनुपालन करेंगे.

उल्लंघन करने वालों पर होगी कार्रवाई  

लॉकडाउन में शाम 7:00 बजे से सुबह 7:00 बजे तक किसी भी परिस्थिति में, चिकित्सा कार्य को छोड़कर, कोई भी व्यक्ति बाहर नहीं निकलेंगे. यदि कोई व्यक्ति इसका उल्लंघन करते पकड़े गये, तो उस पर आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 51 से 60 तक एवं भारतीय दंड संहिता की धारा 188 के तहत भारतीय दंड संहिता की महामारी से संबंधित सुसंगत धाराओं के अंतर्गत कार्रवाई की जाएगी. धारा 144 के उल्लंघन के तहत भी कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी.



5 व्यक्ति से अधिक जमा होने पर मनाही 
अनुमंडल दंडाधिकारी ने कहा कि इस अवधि में पांच या पांच से अधिक व्यक्ति एक स्थान पर एकत्रित नहीं हो सकेंगे और ना ही नाजायज मजमा लगाएंगे. अनुमंडल क्षेत्रों में सभी प्रकार के कार्यक्रम जहां पांच या पांच से अधिक व्यक्तियों की उपस्थिति होने की संभावना है, वैसे कार्यक्रम के आयोजन की अनुमति नहीं होगी. निषेधाज्ञा की अवधि में अंतरराज्यीय वाहनों के परिचालन एवं यात्रा करने वालों को जांच के बाद ही अपने गंतव्य तक जाने की अनुमति होगी.

बिना सूचना के क्वारंटाइन सेंटर से भागने पर होगी कार्रवाई 

अनुमंडल दंडाधिकारी ने कहा कि यदि कोई व्यक्ति दिशा निर्देश का अनुपालन एवं आवश्यक वांछित सूचना ससमय उपलब्ध कराने में असहयोग करेगा, तो उस पर आईपीसी 1860 की धारा 270 के तहत एवं सीआरपीसी 1973 के तहत धारा 144 के उल्लंघन के आरोप में कार्रवाई की जाएगी. यदि कोई कोविड-19 से पीड़ित या क्वॉरंटाइन या आइसोलेशन वार्ड में भर्ती व्यक्ति बिना कोई सूचना दिए चिकित्सालय से भाग जाते हैं, तो वैसे व्यक्ति पर भी जांच में अपेक्षित सहयोग नहीं करने या दिशा-निर्देश का अवहेलना करने के आरोप में आईपीसी 1860 के धारा 270 के तहत एवं सीआरपीसी 1973 के तहत धारा 144 उल्लंघन के तहत कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी.

65 वर्ष से अधिक उम्र के व्यक्ति तथा गर्भवती महिलाएं एवं 10 वर्ष के बच्चे किसी भी परिस्थिति में, चिकित्सा कार्य को छोड़कर, घर से बाहर नहीं निकलेंगे. लॉकडाउन में निर्धारित निर्देशों का अनुपालन करेंगे.

इनपुट- दिलीप कुमार

ये भी पढ़ें- पीडीएस दुकानदार के खिलाफ पूरा गांव सड़क पर उतरा, लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ीं धज्जियां
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading