Home /News /jharkhand /

sdm of dhanbad was held hostage by villagers raid for illegal sand lifting nodaa

धनबाद: बालू घाट पर छापेमारी करने गए एसडीएम को गांववालों ने बंधक बनाया

गांववालों के बीच फंसे छापामारी करने गए अधिकारी.

गांववालों के बीच फंसे छापामारी करने गए अधिकारी.

SDM Hostage: यह मामला धनबाद के पेंड्रा बेजरा पंचायत का है. यहां बराकर नदी घाट पर अवैध बालू उठाव की सूचना मिलने पर धनबाद के एसडीएम प्रेम कुमार तिवारी खनन विभाग की टीम के साथ वहां गए थे. लेकिन इस छापेमारी की खबर गांववालों को पहले हो गई तो वे गोलबंद हो गए. जब छापेमारी दल पोलाकेरा गांव पहुंचा तो ग्रामीण सड़क पर जमा हो गए. उन्होंने एसडीएम और खनन विभाग सहित अन्य वाहनों को गांव में बंधक बना लिया.

अधिक पढ़ें ...

संजय गुप्ता

धनबाद. बराकर नदी घाट पर अवैध बालू उठाव को रोकने के लिए छापेमारी करने गई टीम को गांववालों ने बंधक बना लिया. बाद में भारी संख्या में पहुंची पुलिस ने ग्रामीणों को किसी तरह समझा-बुझाकर छापेमारी करने गई टीम को मुक्त कराया.

यह मामला धनबाद के पेंड्रा बेजरा पंचायत का है. यहां बराकर नदी घाट पर अवैध बालू उठाव की सूचना मिलने पर धनबाद के एसडीएम प्रेम कुमार तिवारी खनन विभाग की टीम के साथ वहां गए थे. लेकिन इस छापेमारी की खबर गांववालों को पहले हो गई तो वे गोलबंद हो गए. जब छापेमारी दल पोलाकेरा गांव पहुंचा तो ग्रामीण सड़क पर जमा हो गए. उन्होंने एसडीएम और खनन विभाग सहित अन्य वाहनों को गांव में बंधक बना लिया.

गांव वालों ने बांस और अन्य सामान से दोनों तरफ के रास्ते बंद कर दिए. इस बीच एसडीएम ने बंधक बनाए जाने की सूचना पुलिस को दे दी. तब भारी संख्या में पुलिस बल मौके पर पहुंची. हालांकि यह सारा हंगामा घंटे भर चला. लेकिन इस बीच बालूघाट से सारे ट्रक हटा लिए गए थे. इधर, एसडीएम की सूचना पर पहुंची पुलिस ने ग्रामीणों को समझा-बुझाकर शांत कराया. लगभग घंटे भर बंधक बनाए रखने के बाद छापेमारी दल को ग्रामीणों ने छोड़ दिया.

बता दें कि इनसब के बाद जब छापेमारी दल बालूघाट पहुंचा तो उसे वहां एक भी वाहन नहीं मिला. बालू उठाव में लगे नाव भी मौके से गायब पाए गए. घाट पर बालू का स्टाक छापेमारी दल को मिला है. छापेमारी दल स्टाक की जांच करने में जुटा है. फिलहाल छापेमारी दल अन्य घाटों पर भी छापेमारी कर रहा है. स्थानीय लोगों के मुताबिक उनके पास कोई रोजगार नहीं है. मैथन डैम के निर्माण के दौरान उनकी जमीन चली गई. जीवन यापन करने में कठिनाई होती है. ट्रैक्टर से बालू के उठाव के कारण ही उनकी रोजी-रोटी चलती है. ऐसे में प्रशासन की कार्रवाई से रोजी-रोटी पर भी आफत आ जाएगी.

Tags: Dhanbad news, Sand mafia, Sand Mining

अगली ख़बर