धनबाद में 460 साइट पर सर्वे का काम पूरा, मोनोलिथिक तकनीक से बनेंगे सस्ते घर

धनबाद उपायुक्त ने लिया आवासीय निर्माण की साइट का जाएजा
धनबाद उपायुक्त ने लिया आवासीय निर्माण की साइट का जाएजा

धनबाद में अब झरिया पुनर्वास विकास प्राधिकरण के अंतर्गत बनाए जाने वाले आवास अब मोनोलिथिक टेक्नोलॉजी से बनाए जाएंगे. इस टेक्नोलॉजी से कम समय में उच्च गुणवत्ता वाले आवास लोगों को उपलब्ध होंगे.जिसकी जानकारी डीपीआरओ ने दे दी है

  • Share this:
झारखंड के धनबाद में अब झरिया पुनर्वास विकास प्राधिकरण के अंतर्गत बनाए जाने वाले आवास अब मोनोलिथिक टेक्नोलॉजी से बनाए जाएंगे. इस टेक्नोलॉजी से कम समय में उच्च गुणवत्ता वाले आवास लोगों को उपलब्ध होंगे.जिसकी जानकारी डीपीआरओ ने दे दी है.बता दें की धनबाद उपायुक्त ए दोड्डे ने विगत 12 एवं 13 नवंबर को चेन्नई के कांचीपुरम और अन्ना नगर में इस टेक्नोलॉजी से बन रहे आवासीय निर्माण को देखा. इस अवसर पर उपायुक्त ने अन्ना नगर में आयकर विभाग के लिए निर्मित आवासीय परिसर को भी निरीक्षण किया.अन्ना नगर एवं कांचीपुरम में मोनोलिथिक टेक्नोलॉजी से बड़े पैमाने पर आवास का निर्माण किया जा रहा है.

10 अक्टूबर को कोयला मंत्रालय की 17वीं एचपीसीसी की बैठक में धनबाद उपायुक्त ए दोड्डे को मोनोलिथिक टेक्नोलॉजी से हो रहे आवासीय निर्माण की साइटको देखने के लिए कहा गया था. इसी संदर्भ में उपायुक्त ने उपरोक्त साइट का देखा और निर्माण की प्रक्रिया को समझा था.जेआरडीए द्वारा नवंबर माह के अंत तक सर्वे का काम पूरा कर लिया जाएगा.फिलहाल धनबाद में 460 साइट में सर्वे का काम पूरा हो गया है और अगले दो-ढाई साल में लोगों को नए घर में बसा दिया जाएगा. लोगों की सुरक्षा सरकार की प्राथमिकता है.सरकार लोगों को बेहतर बुनियादी सुविधाओं से युक्त आवास देने के लिए कटिबद्ध है. इसलिए झरिया पुनर्वास विकास प्राधिकरण द्वारा जनता की भलाई और सुरक्षा के लिए सर्वे किया जा रहा है.जहां खनन कार्य चल रहा है, वहां के लोगों का प्राथमिकता के आधार पर पुनर्वास किया जाएगा.

 



यह भी पढ़ें-  झरिया की भूमिगत आग और विस्थापितों के पुनर्वास का जायजा लेने पहुंचे झारखंड के मुख्य सचिव
यह भी पढ़ें-  झरिया में जमीन खरीदिए, घर बनाने की इजाजत नहीं
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज