एसीबी की टीम ने पुलिस के एएसआई को रिश्वत लेते रंगे हाथों किया गिफ्तार

एएसआई महेंद्र कुमार केस डायरी तैयार करने को लेकर पीड़ित से रुपए की मांग कर रहा था. पीड़ित संजय विश्वकर्मा ने इसकी सूचना एसीबी कार्यालय के अधिकारियों को दी.

अभिषेक कुमार | News18 Jharkhand
Updated: February 12, 2019, 10:04 PM IST
एसीबी की टीम ने पुलिस के एएसआई को रिश्वत लेते रंगे हाथों किया गिफ्तार
रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़े जाने के बाद मुंह छुपाए बैठा आरोपी एएसआई
अभिषेक कुमार | News18 Jharkhand
Updated: February 12, 2019, 10:04 PM IST
एसीबी की टीम ने धनबाद पुलिस के एक असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर को घूस लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया है. आरोप है कि केस डायरी तैयार करने को लेकर असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर द्वारा पीड़ित से रुपयों की मांग की जा रही थी. इस सूचना पर एसीबी की टीम ने भागाबांध ओपी के असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर महेंद्र कुमार को 7000 रुपए की रिश्वत लेते गिरफ्तार कर लिया.

एएसआई महेंद्र कुमार केस डायरी तैयार करने को लेकर पीड़ित से रुपए की मांग कर रहा था. पीड़ित संजय विश्वकर्मा ने इसकी सूचना एसीबी कार्यालय के अधिकारियों को दी. एसीबी की 10 सदस्य टीम सुबह करीब 8:00 बजे संजय विश्वकर्मा के साथ भागाबांध पहुंची. संजय ने  उसके बाद 7 हजार रुपए लेकर भागाबांध ओपी में प्रवेश किया. जैसे ही उसने एएसआई को रुपए दिए, एसीबी टीम ने कार्रवाई करते हुए उसे रिश्वत लेते धर दबोचा.

पीड़ित पक्ष के परिजन संतोष सिंह का आरोप है कि 29 तारीख को शंकर भुइयां नाम के शख्स द्वारा संजय विश्वकर्मा उर्फ राजा विश्वकर्मा को घर में बंधक बनाकर उसके साथ मारपीट कर रंगदारी की मांग की गई थी. इस मामले में थाना में प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी.



आरोप है कि मामले के जांचकर्ता एएसआई महेंद्र कुमार शिकायतकर्ता से एफआईआर वापस लेने का दबाव बना रहा था. जब संजय इसके लिए राजी नहीं हुआ तो एएसआई ने धौंस दिखाकर मामले को झूठा करार देने की धमकी दी. एएसएई ने इस पर कहा कि यदि 10,000 देते हो तो तुम्हारे केस डायरी तैयार करेंगे. इसके बाद एएसआई सात हज़ार में केस डायरी तैयार करने पर राजी हो गया.

यह भी पढ़ें - आयकर विभाग के पूर्व संयुक्त निदेशक स्वर्ण सिंह को 5 साल की कैद, एक लाख जुर्माना

यह भी पढ़ें - झारखंड में 70 हजार पुलिसकर्मियों का आंदोलन शुरू, काला बिल्ला लगाकर कर रहे काम
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर