अपना शहर चुनें

States

झरिया में जमीन खरीदिए, घर बनाने की इजाजत नहीं

झरिया में लगी हुई है भूमिगत आग
झरिया में लगी हुई है भूमिगत आग

धनबाद के भूमिगत आग और भूधंसान प्रभावित झरिया कोलफिल्ड क्षेत्र में बसे लोग जमीन तो खरीद सकते हैं, लेकिन घर नहीं बना सकते.

  • Share this:
धनबाद के भूमिगत आग और भूधंसान प्रभावित झरिया कोलफिल्ड क्षेत्र में बसे लोग जमीन तो खरीद सकते हैं, लेकिन घर नहीं बना सकते. ऐसा इसलिए क्योंकि झरिया में कहां भूमिगत आग लगी हुई है और कहां नहीं इसकी जानाकारी जमीन निबंधन कार्यालय को नहीं है.

बता दें कि झरिया कोलफिल्ड के वासिंदे अपने रैयती जमीन की खरीद बिक्री धनबाद के रजिस्ट्री कार्यालय में कर सकते हैं, लेकिन घर बनाने के लिए धनबाद नगर निगम भूमिगत आग के कारण नक्शा पास नहीं करती. धनबाद सांसद पीएन सिंह का धनसार स्थित आवास भी खतरनाक इलाके में चिह्नित किया गया है.

मगर सांसद पीएन सिंह ने इस मामले में बीसीसीएल, जिला प्रशासन और राज्य सरकार की नीयत पर सवाल उठाया है. उन्होंने कहा कि 2004 में मनमाने तरीके से डीजीएमएस ने शहर के एक बड़े इलाके को खतरनाक घोषित कर दिया. मगर इसकी समीक्षा होनी चाहिए. लोगों का अपनी जमीन पर न तो घर बनाने के लिए निगम से नक्शा पास हो रहा है और न ही बैंक जमीन पर ऋण देने के लिए तैयार है. सांसद ने जानना चाहा कि आखिर सरकार झरिया में करोड़ों रूपए खर्च कर सड़क चौड़ीकरण और थानों के भवन का निर्माण किस आधार पर करा रही है.



दूसरी तरफ मेयर शेखर अग्रवाल का कहना है कि झरिया कोलफिल्ड क्षेत्र में भूमिगत आग के कारण 1990 से ही रोक लगी हुई है. पूर्व में माडा और वर्तमान में नगर निगम सुरक्षा कारणों से नक्शा स्वीकृत नहीं कर रही है. वहीं जमीन निबंधन कार्यालय के रजिस्ट्रार संतोष कुमार का कहना है कि झरिया में जमीन खरीद बिक्री पर कोई रोक नहीं है क्योंकि किस जमीन पर आग है और किस जमीन पर नहीं इसकी जानकारी विभाग को नहीं है.
इधर बीसीसीएल के सीएमडी अजय कुमार सिंह का कहना है कि बीसीसीएल के भूमिगत आग प्रभावित सभी इलाके सैटेलाइट के जरिए चिह्नित किए गए हैं. हाल ही में डीसी रेल लाइन इसी आधार पर बंद की गई थी. मगर इन सब के बीच उपायुक्त ए. दोड्डे ने कहा कि सांसद द्वारा उठाए गए मामले की जांच कराई जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज