शगुन में पुराने कपड़े मिलने पर निकाह के 10 घंटे बाद ही हुआ तलाक

दोनों पक्षों के बीच झगड़ा बढ़ा तो इलाके के विधायक की मौजूदगी में पंचायत लगाई गई और दूल्हा पक्ष ने मेहर के 3.40 लाख रुपये दुल्हन पक्ष को अदा किए. इसके बाद मामला सुलझा और मुस्लिम रीति-रिवाज के तहत दूल्हा और दुल्हन के बीच तलाक हुआ.

News18Hindi
Updated: June 20, 2019, 1:40 PM IST
शगुन में पुराने कपड़े मिलने पर निकाह के 10 घंटे बाद ही हुआ तलाक
दुल्हन पक्ष के लोगों ने कहा कि शगुन में दिए गए नकाब, लहंगा और सलवार सूट ही पुराने दिए गए हैं. इस पर दूल्हा पक्ष ने कहा कि नए कपड़े घर छूट गए हैं जल्द ही मंगवा लिए जाएंगे.
News18Hindi
Updated: June 20, 2019, 1:40 PM IST
झारखंड से एक चौंकाने वाली खबर है. यहां के देवघर में निकाह के महज 10 घंटे के अंदर ही तलाक होने और मेहर की रकम देने का मामला सामने आया है. जानकारी के अनुसार सारठ के पिंडारी गांव में शगुन में पुराने कपड़े देने की बात पर हुआ विवाद इतना बढ़ा कि निकाह के कुछ ही घंटों बाद तलाक की नौबत आ गई. इस संबंध में पहले दूल्हा पक्ष के लोगों ने काफी समझाने-बुझाने का प्रयास किया लेकिन बात नहीं बनी.

अभी यह हाल तो बाद में क्या होगा
मीडिया रिपोर्ट के अनुसार दुल्हन पक्ष के लोगों ने कहा कि शगुन में नकाब, लहंगा और सलवार सूट ही पुराने दिए गए हैं. इस पर दूल्हा पक्ष ने कहा कि नए कपड़े घर पर छूट गए हैं जिसे जल्दी ही मंगवा लिए जाएंगे. यह सुनकर दुल्हन पक्ष के लोग नाराज हो गए और कहा कि शगुन के कपड़े अभी ही पुराने पहनाए जा रहे हैं तो बाद में क्या करेंगे. नोंकझोंक बढ़ते-बढ़ते इतनी हो गई कि बारातियों को बंधक बना लिया गया.

मेहर की रकम दी

जब झगड़ा बढ़ा तो इलाके के विधायक को वहां बुलाया गया. उनकी मौजूदगी में पंचायत लगाई गई और दूल्हा पक्ष ने मेहर के 3.40 लाख रुपये दुल्हन पक्ष को अदा किए. इसके बाद जाकर मामला सुलझा और मुस्लिम रीति-रिवाज के तहत दूल्हा और दुल्हन के बीच तलाक हुआ.

जानकारी के अनुसार मंगलवार रात 10 बजे बारात पिंडारी पहुंची थी. जिसके बाद निकाह की रस्में शुरू हुईं लेकिन कुछ ही देर में शगुन के कपड़े और जेवर की मांग की गई. जिसके बाद दूल्हा पक्ष ने जल्दबाजी में कपड़े घर पर छूट जाने की बात कही. इससे शुरू हुआ विवाद बढ़ता चला गया.

ये भी पढ़ें - AES का कहर: मुजफ्फरपुर में सभी अधिकारियों की छुट्टियां रद्द
दवा के साथ दुआ, चमकी बुखार के प्रकोप से बचने के लिए हवन
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...