होम /न्यूज /झारखंड /पति को बंधक बना पत्नी से गैंगरेप मामले में 10 को 25 वर्ष कैद की सजा, राष्ट्रीय महिला आयोग ने लिया था स्वतः संज्ञान

पति को बंधक बना पत्नी से गैंगरेप मामले में 10 को 25 वर्ष कैद की सजा, राष्ट्रीय महिला आयोग ने लिया था स्वतः संज्ञान

Jharkhand News: दुमका व्यवहार न्यायालय ने पति को बंधक बनाकर पत्नी के साथ गैंगरेप मामले में 10 लोगों को 25 वर्ष की सजा सुनाई है.

Jharkhand News: दुमका व्यवहार न्यायालय ने पति को बंधक बनाकर पत्नी के साथ गैंगरेप मामले में 10 लोगों को 25 वर्ष की सजा सुनाई है.

Jharkhand News: दुमका के मुफस्सिल थाना क्षेत्र के घासीपुर गांव में 08 दिसम्बर 2020 को हुए गैंगरेप के इस मामले का राष्ट् ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट- नितेश कुमार 

दुमका. दुमका व्यवहार न्यायालय ने पति को बंधक बनाकर पत्नी के साथ गैंगरेप करने के मामले में 10 लोगों को 25 वर्ष कैद की सजा सुनाई है. दरअसल दुमका के द्वितीय अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश राकेश कुमार मिश्रा के न्यायालय ने पति को बंधक बना कर उसकी 35 वर्षीय पत्नी के साथ दिसम्बर 2020 में मुफस्सिल थाना क्षेत्र के घासीपुर गांव में किये गये सामुहिक दुष्कर्म मामले में दसों अभियुक्तों को 25 साल सश्रम कारावास की सजा सुनायी है.

बता दें, दुमका के मुफस्सिल थाना क्षेत्र के घासीपुर गांव में 08 दिसम्बर 2020 को हुए गैंगरेप के इस मामले का राष्ट्रीय महिला आयोग ने स्वतः संज्ञान लेते हुए झारखण्ड के डीजीपी को समयबद्ध ढंग से इस मामले की जांच कर कार्रवाई करने का निर्देश दिया था. इस मामले में 12 लोगों को गिरफ्तार किया गया था जिनमें से दो नाबालिग थे जिनका मामला जेजेबी में चल रहा है.

इन लोगों को सुनाई गयी सजा 

इस मामले में जिन अभियुक्तों को सजा सुनायी गयी है उनमें मंगल मुर्मू उर्फ मामू, मनोज मोहली, मनोज मोहली-2, बोदीलाल मोहली, संतोष हेम्ब्रम उर्फ मोहली, विकास मोहली शामिल हैं. गैंगरेप के 10 अभियुक्तों को कोर्ट ने सोमवार को दोषी करार दिया था. मंगलवार को सजा की बिन्दु पर अभियोजन पक्ष की ओर से पीपी चंपा कुमारी और बचाव पक्ष की अधिवक्ता सोमा गुप्ता की बहस सुनने के बाद कोर्ट ने दसों अभियुक्तों को भादवि की धारा 376डी (गैंगरेप) में 25 साल की कैद और जुर्माना की सजा सुनायी.

जुर्माना नहीं देने पर अतिरिक्त सजा भुगतनी होगी

जुर्माना की राशि अदा नहीं करने पर ढाई वर्ष अतिरिक्त सजा भुगतनी होगी. इसके अलावा भादवि की धारा 354/34 में पांच साल की कैद व जुर्माना तथा जुर्माना नहीं देने पर एक साल का अतिरिक्त कारावास और 342/34 में एक साल की कैद व जुर्माना तथा जुर्माना नहीं अदा करने पर एक माह की अतिरिक्त कारवास की सजा भी सुनायी गयी है.

Tags: Dumka news, Jharkhand news, National Women Commission

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें