तमिलनाडु में फंसी 36 महिला मजदूरों को लाया गया दुमका, वीडियो जारी कर सरकार से मांगी थी मदद

फिलहाल सभी महिला मजदूरों को क्वारेंटाइन सेंटर में रखा गया है.

फिलहाल सभी महिला मजदूरों को क्वारेंटाइन सेंटर में रखा गया है.

Dumka News: महिला मजदूरों ने सोशल मीडिया पर वीडियो पोस्ट कर झारखंड सरकार से मदद की अपील की थी. जिसके बाद सरकार की पहल पर सभी को ट्रेन से तमिलनाडु से धनबाद लाया गया, जहां से बस से दुमका भेजा गया.

  • Share this:

रिपोर्ट- निरंजन सिंह/ नितेश कुमार

दुमका. तमिलनाडु में फंसी दुमका की 36 महिला मजदूरों को हेमंत सरकार (Hemant Government) के प्रयास पर शुक्रवार को धनबाद लाया गया. धनबाद स्टेशन पर कोरोना टेस्ट के बाद सभी को बस से दुमका भेजा गया. दरअसल इसी साल फरवरी में दुमका के विभिन्न प्रखंडों से 36 महिला श्रमिकों का जत्था रोजगार की तलाश में तमिलनाडु के त्रिपुर गया था. वहां ये सभी एक कॉटन फैक्ट्री में काम कर रही थीं. इसी बीच कोरोना की दूसरी लहर का दौर शुरू हुआ और कॉटन फैक्ट्री को बंद कर दिया गया. नतीजा सभी महिला श्रमिक बेरोजगार हो गईं. ये लोग लॉकडाउन की वजह से वहां से वापस दुमका लौट नहीं पा रही थीं. जिसके बाद इन्होंने सोशल मीडिया पर वीडियो पोस्ट कर झारखंड सरकार से मदद की अपील की. फिर सरकार की पहल पर सभी को ट्रेन से तमिलनाडु से धनबाद लाया गया.

धनबाद से दुमका पहुंचने पर सभी युवतियों का इंडोर स्टेडियम में जांच की गई. और 7 दिनों के लिए हिजला क्वारेंटाइन सेंटर भेज दिया गया. 7 दिन के बाद दोबारा कोविड जांच की जाएगी. रिपोर्ट निगेटिव आने पर इन्हें घर भेज दिया जाएगा.

तमिलनाडु से लौटी सावित्री तुरी ने कहा कि हमें यकीन नहीं हो रहा है कि हम अपने घर पहुंच गए हैं. मुख्यमंत्री को हमारी चिंता है. आज यह यकीन के साथ कहती हूं.
मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने इन युवतिओं को दुमका में काम उपलब्ध कराने का निर्देश जिले के उपायुक्त को दिया है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज