लाइव टीवी

VIDEO: मसानजोर डैम को लेकर झारखंड- पश्चिम बंगाल में विवाद

News18 Jharkhand
Updated: August 9, 2018, 3:31 PM IST

मंत्री ने कहा कि मसानजोर डैम के विस्थापित 144 गांव के लोगों के लिए वे आज भी लड़ाई लड़ रही हैं. ऐसे में मसानजोर क्षेत्र की तरफ अगर कोई आंख भी उठाकर देखेगा, तो उसकी आंखें निकाल लेंगे.

  • Share this:
झारखंड के दुमका में स्थित मसानजोर डैम को लेकर झारखंड और पश्चिम बंगाल में विवाद गहराने लगा है. दरअसल पश्चिम बंगाल सरकार डैम को सफेद और नीले रंग से रंगवा रही थी, जिस पर आपत्ति दर्ज कराते हुए दुमका जिले के बीजेपी कार्यकर्ताओं ने रोक लगा दी.

बीजेपी कार्यकर्ताओं ने डैम से आधा किलोमीटर दूर पश्चिम बंगाल सरकार के लगाए गए वेलकम बोर्ड पर झारखंड सरकार का लोगो लगा दिया, जिसे शनिवार रात पश्चिम बंगाल पुलिस ने हटा दिया. इन सबके बीच रविवार को झारखंड के समाज कल्याण मंत्री लुइस मरांडी ने मसानजोर डैम का दौरा किया. उन्होंने कार्यकर्ताओं के कदम को सही करार देते हुए पश्चिम बंगाल सरकार को डीड सार्वजनिक करने की चुनौती दी.

समाज कल्याण मंत्री लुइस मरांडी ने  कहा कि 1950 के दशक में मसानजोर डैम बना था. उस समय संयुक्त बिहार और पश्चिम बंगाल के बीच जो भी एग्रीमेंट हुआ था, उसे पश्चिम बंगाल सरकार सार्वजनिक करे. उन्होंने दावा किया कि अब वह एग्रीमेंट फेल हो चुका है. मंत्री ने कहा कि मसानजोर डैम के विस्थापित 144 गांव के लोगों के लिए वे आज भी लड़ाई लड़ रही हैं. ऐसे में मसानजोर क्षेत्र के तरफ अगर कोई आंख भी उठाकर देखेगा, तो उसकी आंखें निकाल लेंगे.

बता दें कि साल 1950 में पश्चिम बंगाल और संयुक्त बिहार के बीच एक समझौता हुआ था, जिसके तहत डैम के झारखंड में होते हुए भी, उसका नियंत्रण पश्चिम बंगाल सरकार को दिया गया था.

(पंचम कुमार की रिपोर्ट)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुमका से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 6, 2018, 11:46 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर