Dumka By election: CM हेमंत के छोटे भाई बसंत सोरेन ने गठबंधन प्रत्याशी के रूप में किया नॉमिनेशन

बसंत सोरेन सीएम हेमंत सोरेन के छोटे भाई हैं.
बसंत सोरेन सीएम हेमंत सोरेन के छोटे भाई हैं.

छोटे भाई बसंत सोरेन के नॉमिनेशन में पहुंचे सीएम हेमंत (Hemant Soren) ने कहा कि दुमका और बेरमो दोनों सीट पर महागठबंधन प्रत्याशी की जीत तय है. जनता भाजपा के 5 वर्षों के शासन काल में लिए गए जनविरोधी निर्णयों को भूली नहीं है.

  • Share this:
दुमका. झारखंड की दो विधानसभा सीट दुमका और बेरमो में उपचुनाव होना है. 3 नवंबर को दुमका में उपचुनाव (Dumka By election) है. इसको लेकर नामांकन की प्रक्रिया जारी है. इसी कड़ी में आज महागठबंधन प्रत्याशी के रूप में झामुमो युवा मोर्चा के केंद्रीय अध्यक्ष बसंत सोरेन (Basant Soren) ने नामांकन पर्चा दाखिल किया. नामांकन से पूर्व बसंत सोरेन दिशोम मांझी थान पहुंचे, जहां उन्होंने परंपरागत तरीके से अपने अराध्य की पूजा अर्चना की. बसंत ने दो सेट में अपना पर्चा दाखिल किया.

नामांकन के बाद मीडिया से बात करते हुए उन्होंने अपनी जीत का दावा किया और कहा कि झारखंड के लिए शिबू सोरेन ने हमेशा संघर्ष किया है. राजनीति का ककहरा पिता से सीखने के बाद दुमका विधानसभा की जनता के सुख-दुख में हमेशा खड़े रहे हैं. निश्चित रूप से जनता का आशीर्वाद मिलेगा.

उनके साथ पार्टी के केंद्रीय महासचिव विजय सिंह मौजूद थे. उधर, नामांकन की प्रक्रिया को लेकर सीएम हेमंत सोरेन सहित मंत्री आलमगीर आलम, सत्यानंद भोक्ता, बादल पत्रलेख, विधायक प्रदीप यादव, इरफान अंसारी सहित कई नेता दुमका पहुंचे थे.



सीएम का बीजेपी पर निशाना 
नामांकन के बाद सीएम ने खिजुरिया स्थित अपने आवास पर प्रेस को संबोधित किया. सीएम ने कहा कि दुमका और बेरमो दोनों सीट पर महागठबंधन प्रत्याशी की जीत तय है. जनता भाजपा के 5 वर्षों के शासन काल में लिए गए जनविरोधी निर्णय को भूली नहीं है. कोरोना संकट के बावजूद वर्तमान सरकार ने 9 महीने के कार्यकाल में बेहतर कार्य किया है.

बिहार में गठबंधन से अलग होकर चुनाव लड़ने के सवाल पर हेमंत ने कहा कि समय और स्थान के अनुरूप अलग-अलग तरीके से युद्ध लड़ा जाता है. इससे झारखंड में महागठबंधन की एकता में कोई दरार नहीं है.

वहीं मंत्री आलमगीर आलम ने कहा कि गठबंधन मजबूती के साथ दोनों सीट पर चुनाव लड़ेगा.

इसलिए खाली हुई दुमका सीट 

ज्ञात हो कि वर्ष 2019 के विधानसभा चुनाव में हेमंत सोरेन दुमका और बरहेट सीट से चुनाव लड़े थे. दोनों जगह से जीत दर्ज की. संवैधानिक प्रावधान के तहत दुमका सीट से उन्होंने त्यागपत्र दे दिया. इस कारण यहां उपचुनाव हो रहा है. उस चुनाव में हेमंत सोरेन ने भाजपा प्रत्याशी लुईस मरांडी को लगभग 13 हजार मतों से पराजित किया था. इस बार लुईस मरांडी के सामने सीएम के छोटे भाई बसंत सोरेन मैदान में है. 10 नवंबर को पता चल जाएगा कि मुकाबले में कौन-किस पर भारी पड़ा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज