Home /News /jharkhand /

fish farming to start in closed mines ponds by dumka administration project in nandana village at bengal border bruk

बंद खदानों के तालाबों में मछली पालन के जरिए मिलेगा रोजगार, झारखंड-बंगाल सीमा से हुई योजना की शुरुआत

Fish Farming In Dumka: दुमका के रानीश्वर प्रखंड के नंदना गांव में स्थित पत्थर के बंद खदान में मछली पालन की शुरुआत की गयी.

Fish Farming In Dumka: दुमका के रानीश्वर प्रखंड के नंदना गांव में स्थित पत्थर के बंद खदान में मछली पालन की शुरुआत की गयी.

Fish Farming in Mines: झारखंड में वर्षों तक लोगों को रोजगार देने ये पत्थर खदान फिर से ग्रामीणों को आत्मनिर्भर बनाएंगे. एक नई योजना के तहत दुमका मत्स्य विभाग द्वारा इन खदानों के तालाब में मछली पालन शुरू किया जा रहा है. दुमका में रोजगार को लेकर प्रशासन की ओर से सार्थक पहल हुई है.

अधिक पढ़ें ...

रिपोर्ट- नितेश कुमार 

दुमका. झारखंड की उपराजधानी दुमका जिला में दर्जनों ऐसे पुराने पत्थर खदान हैं, जिसमें पत्थर का उत्खनन बंद हो चुका है और उसमें 40 से 50 फीट तक पानी भरा हुआ है. अब तक इस पानी का कोई इस्तेमाल नहीं हो रहा था. खास बात यह भी है कि भले ही गांव के सभी तालाब भीषण गर्मी में सूख जाते हों पर इस पत्थर खदान में भरा पानी कभी नहीं सूखता है. ऐसे में अब इस पानी का सदुपयोग किया जाएगा.

दरअसल झारखंड में वर्षों तक लोगों को रोजगार देने ये पत्थर खदान फिर से ग्रामीणों को आत्मनिर्भर बनाएंगे. एक नई योजना के तहत दुमका मत्स्य विभाग द्वारा इन खदानों के तालाब में मछली पालन शुरू किया जा रहा है. दुमका में रोजगार को लेकर प्रशासन की ओर से सार्थक पहल हुई है. जिसके तहत बंद पत्थर खदान के जल में मछली पालन का कार्य शुरू किया गया है.

इन प्रजातियों की मछलियों को लाया गया 

दुमका के रानीश्वर प्रखंड के नंदना गांव में स्थित पत्थर के बंद खदान में मछली पालन की शुरुआत की गयी. यहां केज कल्चर के माध्यम से मछली पालन किया जाएगा. इसकी शुरुआत दुमका उपायुक्त रविशंकर शुक्ला और विभागीय अधिकारियों ने ग्रामीणों के साथ मिलकर की. यहां लगाए गए 24 केज में मछली की तीन प्रजातियां पंगास, मोनोसेक्स और तिलापिया के स्पॉन डाले गए. इसकी कुल लागत लगभग 37 लाख रुपये है. विभाग की मानें तो आठ माह के अंदर लगभग 70 टन मछली तैयार हो जाएगा.

झारखंड-बंगाल सीमा के नंदना गांव से हुई शुरुआत 

उपायुक्त ने ग्रामीणों को संबोधित करते हुए कहा कि आप इस पर काफी मेहनत करें, कोई भी योजना शुरू करना ज्यादा कठिन नहीं होता जबकि उसे बरकरार रखने के लिए मेहनत ज्यादा जरूरी है. उन्होंने कहा कि आप इस पर अधिक से अधिक समय दें यह आपको और आपके परिवार को आजीविका प्रदान करेगा. उन्होंने कहा कि जहां तक बाजार की बात है तो कहां आपकी मछली का उचित मूल्य प्राप्त होगा इसकी व्यवस्था जिला प्रशासन करेगी ।

Tags: Dumka news, Jharkhand news, Trout Fish Farming

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर