लाइव टीवी

दूध संग्रहण केंद्र खोले जाने से गोपालकों के लिए दूध बेचना हुआ आसान
Dumka News in Hindi

Bhuwan Kishore Jha | News18 Jharkhand
Updated: July 14, 2018, 10:58 PM IST
दूध संग्रहण केंद्र खोले जाने से गोपालकों के लिए दूध बेचना हुआ आसान
जगह - जगह खोले जा रहे दूध संग्रहण केंद्र

दूध संग्रहण केंद्रों में से प्रत्येक केंद्र की क्षमता लगभग दो हजार लीटर दूध खरीदने की है. गोपालकों को इसका लाभ मिलने लगा है. जामा प्रखंड के बागझोपा गांव के गोपालक इससे काफी खुश हैं.

  • Share this:
झारखंड सरकार लोगों को स्वरोजगार के माध्यम से आत्मनिर्भर बनाने का प्रयास कर रही है. इसी कड़ी में गव्य विकास विभाग द्वारा जरूरतमंद लोगों को गाय दिए गए ताकि वे खुद ही दूध का व्यवसाय कर कमाई करें और अपने जीवन स्तर को सुधार सकें. दूध के व्यवसाय से जुड़े गोपालकों को दूध बेचने में कठिनाई हुआ करती थी. लेकिन इसके समाधान के लिए दुमका में गव्य विकास विभाग ने 4 स्थानों पर दूध संग्रहण केंद्र खोल दिया है.

इन दूध संग्रहण केंद्रों में से प्रत्येक केंद्र की क्षमता लगभग दो हजार लीटर दूध खरीदने की है. गोपालकों को इसका लाभ मिलने लगा है. जामा प्रखंड के बागझोपा गांव के गोपालक इससे काफी खुश हैं. उनके गांव में दूध संग्रहण केंद्र खुलने से अब उन्हें दूध बेचने के लिए दूर नहीं जाना पड़ रहा है. उचित कीमत के साथ-साथ समय पर उन्हें भुगतान भी कर दिया जा रहा है.

इस बाबत जिला गव्य विकास पदाधिकारी अरूण कुमार सिन्हा का कहना है कि खोले गए चार दूध संग्रहण केंद्रों से प्रतिदिन 7 हजार लीटर से ज्यादा दूध खरीदा जा रहा है. उन्होंने कहा कि चालू वित्तीय वर्ष में 5 और केंद्र खोलने की योजना है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुमका से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 14, 2018, 10:58 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर