होम /न्यूज /झारखंड /पत्नी मुस्लिम तो पिता हिन्दू रीति से बेटे का करना चाहता था अंतिम संस्कार, फिर पुलिस ने सुनाया ये फैसला...

पत्नी मुस्लिम तो पिता हिन्दू रीति से बेटे का करना चाहता था अंतिम संस्कार, फिर पुलिस ने सुनाया ये फैसला...

पुलिस ने पिता पर पत्नी के दावे को तवज्जो देते हुए शव को पत्नी के हवाले कर दिया.

पुलिस ने पिता पर पत्नी के दावे को तवज्जो देते हुए शव को पत्नी के हवाले कर दिया.

Jharkhand News: दुमका में बेटे की मौत पर ससुर और बहू में तकरार हो गई. ससुर बेटे के शव का हिन्दू रीति से अंतिम संस्कार क ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट- नितेश कुमार

दुमका. झारखंड के दुमका में एक शव को लेकर ससुर और बहू में ही तकरार हो गई. ससुर बिंदेश्वरी राउत बेटे दिवाकर के शव का हिन्दू रीति से अंतिम संस्कार करना चाहते थे, जबकि पत्नी सुल्ताना मुस्लिम रिवाज से. बाद में पुलिस ने विवाद सुलझाते हुए पत्नी को शव सौंप दिया.

दरअसल दुमका के बक्शीबन्ध निवासी बिंदेश्वरी राउत के बड़े पुत्र दिवाकर राउत ने वर्ष 2007 में मुस्लिम समुदाय की लड़की सुल्ताना से प्रेम विवाह किया था. यह शादी परिवारवालों की मर्जी के खिलाफ हुई थी. इसलिए पिता ने बेटे को घर से बेदखल कर दिया. घर से निकाले जाने के बाद दिवाकर पत्नी के साथ अलग रहने लगा. समय के साथ दोनों के दो बच्चे हुए. एक लड़का और एक लड़की. दिवाकर ने जी-तोड़ मेहनत कर दुधानी में एक छोटा सा घर भी बना लिया. जिसमें पत्नी और बच्चों के साथ खुशी-खुशी रहने लगा. जीवकोपार्जन के लिए उसने एक छोटा सा गेराज भी खोल लिया.

पिछले दो वर्ष से पत्नी के साथ उसकी तकरार होने लगी. तकरार इतनी बढ़ गयी कि वह पत्नी और बच्चों को छोड़ कर किराए के घर मे अकेला रहने लगा. इस बीच वह कई तरह की बीमारियों से ग्रसित हो गया. इलाज के दौरान फूलो झानो मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में आज उसकी मौत हो गयी. दिवाकर की मौत की खबर सुनकर उसके पिता और परिजन फूलो झानो मेडिकल कॉलेज पहुचे, जहां पत्नी सुल्ताना बीबी भी मौजूद थी.

शव को ले जाने के लिए पिता और पत्नी आमने-सामने हो गए. दोनों शव को अपने अपने साथ ले कर जाने की जिद पर अड़ गए. पत्नी मुस्लिम रीति-रिवाज से तो पिता हिन्दू रीति-रिवाज से शव का अंतिम संस्कार करना चाहते थे. यह बात जंगल मे आग की तरह फैल गयी. काफी संख्या में दोनों समुदाय के लोग फूलो झानो मेडिकल कॉलेज में एकत्रित हो गए. माहौल बिगड़ता देख इसकी सूचना पुलिस को दी गयी. मामले की गंभीरता को देखते हुए एसडीपीओ नूर मुस्तफा अंसारी, मुख्यालय डीएसपी बिजय कुमार और नगर थाना की पुलिस मौके पर पहुंची. दोनों पक्षों से बात कर समझाने का प्रयास किया गया. अंत में पुलिस ने शव को पत्नी के हवाले कर दिया.

पिता ने पुलिस को लिखकर दिया कि शव पर उसका कोई दावा नहीं है. पुलिस की निगरानी में पत्नी पति के शव को लेकर गयी और मुस्लिम रीति रिवाज से उसका अंतिम संस्कार करने की तैयारी में जुट गई. पत्नी का आरोप है कि ससुराल वाले संपत्ति में हिस्सेदारी नहीं देना चाहते हैं.

Tags: Dumka news, Jharkhand news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें