होम /न्यूज /झारखंड /दवा की पर्ची में कंडोम लिखने वाला डॉक्टर अशरफ बदर हुआ बर्खास्त

दवा की पर्ची में कंडोम लिखने वाला डॉक्टर अशरफ बदर हुआ बर्खास्त

सुपेबेड़ा के मरीज न तो इलाज कराना चाह रहे हैं और न ही फॉलोअप के लिए रायपुर जाने को तैयार हैं. (File Photo)

सुपेबेड़ा के मरीज न तो इलाज कराना चाह रहे हैं और न ही फॉलोअप के लिए रायपुर जाने को तैयार हैं. (File Photo)

एक महिला पेट दर्द की शिकायत के साथ डॉ अशरफ बदर के पास इलाज करने के लिए गई थी. डॉक्‍टर बदर ने पर्ची पर कंडोम लिख दिया था.

    झारखंड के घाटशिला में डॉक्टर ने महिला मरीज (Female patient) की पर्ची पर ऐसी बात लिख दी कि हंगामा मच गया. शोर विधानसभा (Assembly) में भी गूंजा. आखिरकार डॉक्टर को नौकरी से हाथ धोना पड़ा. दरअसल, कुछ दिनों पहले डॉक्‍टर अशरफ बदर के पास एक महिला पेट दर्द की शिकायत लेकर आई थी. डॉक्टर ने महिला की प्रिस्क्रिप्‍शन स्लिप में 'कंडोम' लिख दिया था. मामला प्रकाश में आने के बाद से काफी हंगामा मचा था.  बहरागोडा विधायक कुणाल सारंगी ((Kunal Sarangi)  ने इस मामले को विधानसभा में पुरजोर तरीके से उठाया था. आखिरकार सरकार ने डॉ अशरफ बदर को बर्खास्त कर दिया.

    खबर का हुआ असर, डॉक्टर को किया बर्खास्त

    जब इस खबर को न्यूज 18 पर प्रमुखता से दिखाया गया तो  जिला प्रशासन में हड़कंप मच गया था. इसके बाद ही दवा की पर्ची में कंडोम लिखे जाने के मामले की जांच शुरू हो गई थी. करीब दो महीने के बाद कार्रवाई करते हुए डॉ अशरफ बदर को बर्खास्त कर दिया गया. डॉ अशरफ बदर को बर्खास्त करने के बाद विधायक कुणाल सारंगी ने राज्य के मुख्यमंत्री, स्पीकर और विपक्ष के नेता हेमंत सोरेन (Hemant Soren) को धन्यवाद दिया है.

    जेएमएम विधायक कुणाल सारंगी ने विधानसभा में उठाया था मामला (फाइल फोटो)
    जेएमएम विधायक कुणाल सारंगी ने विधानसभा में इस मामले को उठाया था. (फाइल फोटो)


    ये था पूरा मामला

    गौरतलब है कि एक महिला पेट दर्द से परेशान थी. वह 23 जुलाई को डॉक्टर अशरफ बदर के पास इलाज कराने गई थीं. उन्‍होंने डॉक्टर से पेट में गैस होने की वजह से दर्द होने की शिकायत की थी. इसके बाद डॉक्टर ने उन्‍हें पर्ची थमाई थी. महिला जब दवा लेने दुकान पर पहुंची तो उन्‍हें पता चला कि पर्ची में कंडोम लिखा हुआ है. घटना के बाद उस महिला कर्मचारी ने अस्पताल प्रबंधन (Hospital management) से इसकी शिकायत की. बता दें कि महिला भी अस्पताल में ही चतुर्थ वर्गीय कर्मचारी है. इस घटना के बाद अस्पताल के स्वास्थ्यकर्मियों ने भी महिला का साथ देते हुए विरोध किया और डॉक्टर को नौकरी से निकालने की मांग की थी.

    यह भी पढ़ें- पेट दर्द के इलाज के गई महिला को डॉक्टर ने लिखा- कंडोम यूज़ करो, विधानसभा में हंगामा

    यह भी पढ़ें- पत्नी का शौक पूरा करते-करते पति हुआ कंगाल, फिर क्या हुआ..

    Tags: Jamshedpur news, Jharkhand news, Singhbhum S27p10

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें