गुमनामी में जी रहे पाटकर पेंटिंग के पुरोधा, घर के लिए सरकार से लगाई गुहार

पूर्वी सिंहभूम के धालभूमगढ़ प्रखंड का आमडुबी गांव पाटकर पेंटिंग के लिए प्रसिद्ध है. लेकिन यह पेंटिंग अब लुप्त होने के कगार पर है.

News18 Jharkhand
Updated: August 14, 2019, 2:25 PM IST
गुमनामी में जी रहे पाटकर पेंटिंग के पुरोधा, घर के लिए सरकार से लगाई गुहार
पाटकर पेंटिंग के प्रसिद्ध कलाकर अनिल चित्रकार
News18 Jharkhand
Updated: August 14, 2019, 2:25 PM IST
झारखंड की विरासत पाटकर पेंटिंग (Patkar Painting) को बचाने के लिए राज्य सरकार (Jharkhand Govt) ने पूर्वी सिंहभूम के आमडुबी गांव को पर्यटन गांव (Tourist Village) घोषित कर रखा है. डेढ़ सौ लोगों की आबादी वाले इस गांव में चित्रकारों के तीस घर हैं. और 45 लोग चित्रकार हैं. लेकिन इनके जीवन में सरकार की पहल के बावजूद रंग नहीं भर पाए हैं.

लुप्त होने के कगार पर पाटकर पेंटिंग

पूर्वी सिंहभूम के धालभूमगढ़ प्रखंड का आमडुबी गांव पाटकर पेंटिंग के लिए प्रसिद्ध है. लेकिन यह पेंटिंग अब लुप्त होने के कगार पर है. इस गांव के अनिल चित्रकार ने पाटकर पेंटिंग को देश-विदेश में पहचान दिलाई. कलाप्रेमियों ने गांव आकर पेंटिंग को सराहा और खरीदा भी.

अनिल चित्रकार कहते हैं कि पाटकर पेंटिंग पेड़ की छाल और पत्तों के रंग से बनाई जाती है. इस कला को बचाने के लिए पर्यटन विभाग ने कुछ साल पहले आमडुबी गांव को पर्यटन गांव घोषित किया, लेकिन चित्रकारों को इसका लाभ नहीं मिला. इस पेंटिंग की ब्रांडिंग भी ठीक से राज्य सरकार नहीं की.

patkar painting
पेड़ की छाल व पत्तों के रंग से बनती है पाटकर पेंटिंग


गुमनामी में पाटकर पेंटिंग के कलाकार 

अनिल चित्रकार की तबीयत अब ठीक नहीं रहती. जब ठीक थे, तो एक से बढ़कर एक पाटकर पेंटिंग बनाते थे. तब उनका नाम भी था, लेकिन अब गुमनामी की जिंदगी जी रहे हैं. मिट्टी के घर में छत से बारिश का पानी दस्तक दे रहा है. लेकिन इनकी सुध लेने वाला कोई नहीं.
Loading...

कई बार अनिल चित्रकार ने प्रधानमंत्री आवास के लिये सरकार से गुहार भी लगायी. लेकिन वन भूमि पर बसे होने के कारण आवास नहीं मिल पाया. सरकार ने वनभूमि पट्टा देने को लेकर भी कोई दिलचस्पी नहीं दिखायी. लिहाजा अनिल चित्रकार जर्जर मिट्टी के घर में रहने को मजबूर हैं. इस घर में अनिल चित्रकार अपनी विधवा भाभी संध्या चित्रकार के साथ रहते हैं. संध्या चित्रकार की उम्र 70 साल से अधिक है, लेकिन उन्हें वृद्धा पेंशन नहीं मिलती.

रिपोर्ट- प्रभंजन कुमार

ये भी पढ़ें- गृह मंत्रालय की एडवाइजरी पर झारखंड में स्वतंत्रता दिवस को लेकर हाईअलर्ट

कोचांग गैंगरेप का खुलासा करने वाले इंस्पेक्टर को गृह मंत्रालय का अवार्ड

 
First published: August 14, 2019, 2:21 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...