30 साल से रेलवे लाइन के किनारे झोपड़ी बना कर रह रहे 8 सबर परिवार

घाटशिला के धालभूमगढ़ प्रखंड पावड़ा नरसिंहगड़ पंचायत के भैरवपुर सबर बस्ती के 8 सबर परिवार की भूमि नहीं होने के कारण बीते 30 सालों से रेलवे लाइन किनारे रेलवे की जमीन पर टूटी फूटी झोपड़ी बनाकर रहने को विवश हैं.

Prabhanjan kumar | News18 Jharkhand
Updated: November 10, 2018, 9:31 PM IST
30 साल से रेलवे लाइन के किनारे झोपड़ी बना कर रह रहे 8 सबर परिवार
सबर जनजाति के लोग, जो रह रहे 30 साल से झोपड़ी में
Prabhanjan kumar | News18 Jharkhand
Updated: November 10, 2018, 9:31 PM IST
घाटशिला के धालभूमगढ़ प्रखंड पावड़ा नरसिंहगड़ पंचायत के भैरवपुर सबर बस्ती के 8 सबर परिवार की भूमि नहीं होने के कारण बीते 30 सालों से रेलवे लाइन किनारे रेलवे की जमीन पर टूटी फूटी झोपड़ी बनाकर रहने को विवश हैं. सबर परिवारों को सरकारी भूमि पर बसाने के लिए अबतक किसी ने ईमानदारी से पहल नहीं की है हालांकि अब तक पंचायत समिति की ओर से कई बार आवेदन प्रखंड कार्यलय में जमा किए जा चुके हैं लेकिन इन सबर परिवारों को किसी अन्य जगह पर बसाया नहीं जा सका है. इस बार नए प्रखंड विकास पदाधाकारी व अंचलाधिकारी से फिर से पंचायत समिति ने गुहार लगाई है.

भैरवपुर समेत छोडिया गांव के सबर बस्ती के सबर परिवारों का हाल भी बुरा हाल है. यहां छोडिया सबर बस्ती में बीते दो सालों से सबर परिवारों के पीएम आवास नहीं बने. बिचौलियों के कारण सबर परिवारों के पीएम आवास अधूरे पड़े हैं. आवास अधूरा होने के कारण सबर परिवार झोपडी में रहने को विवश हैं. इनको सबसे अधिक परेशानी बरसात होने पर होती है.

टूटी फूटी झोपड़ी में बरसात के समय सबर परिवारों को अनयत्र किसी दूसरे जगह किसी अन्य ग्रामीण के बरांडों में शरण लेनी पड़ती है. आने वाले ठंड में भी इन सबर परिवारों का हाल बद हाल रहेगा. घाटशिला विधायक लक्ष्मण टुडू ने कहा कि भैरवपूर सबर परिवारों को भूमि दिलाकर आवास निर्माण पर जल्द ही पहल की जाएगी. इसके लिए वे प्रखंड और जिला स्तर के अधिकारियों से बात करेंगे

यह भी पढ़ें - CM रघुवर दास और रतन टाटा ने किया कैंसर अस्पताल का शिलान्यास, अत्याधुनिक सुविधाओं से होगा लैस

यह भी पढ़ें - इसरायल से प्रशिक्षण लेकर लौटे किसान, कहा आधुनिक तकनीक से कृषि क्षेत्र में होगा विकास
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर