लाइव टीवी
Elec-widget

Jharkhand Assembly Election 2019: घाटशिला से कुल 17 व बहरागोड़ा सीट से 19 उम्मीदवारों ने भरा नामांकन पत्र

Prabhanjan kumar | News18 Jharkhand
Updated: November 19, 2019, 8:45 AM IST
Jharkhand Assembly Election 2019: घाटशिला से कुल 17 व बहरागोड़ा सीट से 19 उम्मीदवारों ने भरा नामांकन पत्र
नामांकन भरने के अंतिम दिन JMM व AJSU ने दिखाया अपना दम

नामांकन के अंतिम दिन घाटशिला विधानसभा से जेएमएम (Jharkhand Mukti Morcha) प्रत्याशी रामदास सोरेन और एजेएसयू (All Jharkhand Student Union) के डॉ. प्रदीप कुमार बलमुचू ने अपना दम दिखाया है

  • Share this:
घाटशिला (पूर्वी सिंहभूम). झारखंड (Jharkhand) के घाटशिला अनुमंडल कार्यालय (Ghatshila Subdivision Office) में विधानसभा चुनाव (Assembly Elelction) के दूसरे चरण (Second Phase) के नामांकन (Nomination) के अंतिम दिन घाटशिला अनुमंडल कार्यालय में गहमागहमी हो गई. बहरहाल, इस दौरान घाटशिला से 8 और बहरागोड़ा विधानसभा सीट से 10 उम्मीदवारों ने नामांकन पत्र भरा. ऐसे में घाटशिला विधानसभा से कुल 17 और बहरागोड़ा से 19 उम्मीदावारों ने अपना नामांकन पत्र भर दिया है. मंगलवार को स्क्रूटनी (Scrutiny) के बाद नामांकन करने वाले विभिन्न राजनीतिक पार्टी के प्रत्याशी और निर्दलीय प्रत्याशी चुनाव चिन्ह (Election Symbol) मिलने के बाद मैदान में अपना दम लगाएंगे.

नामांकन के अंतिम दिन JMM व AJSU ने दिखाया अपना दम

बता दें कि नामांकन के अंतिम दिन घाटशिला विधानसभा से जेएमएम (Jharkhand Mukti Morcha) प्रत्याशी रामदास सोरेन और एजेएसयू (All Jharkhand Student Union) के डॉ. प्रदीप कुमार बलमुचू ने अपना दम दिखाया है. भारी समर्थकों के साथ दोनों पार्टियों के नेताओं ने घाटशिला मुख्य सड़क पर जुलूस निकाला.

 जुलूस निकालकर किया प्रदर्शन

जेएमएम प्रत्याशी रामदास सोरेन ने अंतिम दिन नामांकन में दो सेट फोर्म जमा किया है. नामांकन के बाद भारी समर्थकों के साथ घाटशिला NH 18 के पास आदिवासी छात्रावास (Tribal hostel) के पास मैदान में कार्यकर्ताओं को संबोधित किया. इसके बाद पैदल ही घाटशिला मुख्य सड़क पर जुलूस निकालकर प्रदर्शन किया.

जीत हुई तो क्षेत्र का करेंगे विकास

इस मौके पर रामदास सोरेन ने कहा कि घाटशिला विधानसभा क्षेत्र में टेक्निकल शिक्षा की कमी और घाटशिला कॉलेज में बीएड शिक्षा नहीं शुरू हो पाई. घाटशिला अनुमंडल को अब तक जिले का दर्जा भी नहीं मिल पाया है. बंद माइंस खुली नहीं. रोजगार के लिए युवाओं को क्षेत्र से बाहर जाना पड़ रहा है. क्षेत्र में एक ऐसा अस्पताल नहीं जहां गंभीर मरीज का इलाज किया सके. इसके लिए जमशेदपुर या बंगाल जाना पड़ता है. उन्होंने कहा कि अगर वे विजयी हुए तो इन जरूरतों को पूरा करने का प्रयास करेंगे.
Loading...

ये भी पढ़ें:- सीएम रघुवर दास बोले- जनता मेरे राम, मैं उनका दास

ये भी पढ़ें:- झारखंड: पहले चरण में 38 करोड़पति मैदान में, यहां देखें लिस्‍ट

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पूर्वी सिंहभूम से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 19, 2019, 8:45 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com