यूपी का शातिर साइबर ठग झारखंड में गिरफ्तार, सीएम योगी का फर्जी OSD बनकर DM को लगाया चूना

यूपी एसटीएफ की टीम ने साइबर ठग अरविंद मिश्रा को गिरफ्तार कर अपने साथ लखनऊ ले गई.

यूपी एसटीएफ की टीम ने साइबर ठग अरविंद मिश्रा को गिरफ्तार कर अपने साथ लखनऊ ले गई.

UP STF Arrested Cyber Criminal in Gharshila: गिरफ्तार साइबर ठग अरविंद मिश्रा यूपी के अमेठी का रहने वाला है. लेकिन मुसाबनी स्थित ससुराल में रहकर यूपी के आलाधिकारियों को फोन पर धमकाता था. खुद को सीएम योगी का ओएसडी बताता था.

  • Share this:
पूर्वी सिंहभूम. झारखंड के पूर्वी सिंहभूम जिले के मुसाबनी में रहकर विभिन्न राज्यों के आलाधिकारियों को फोन पर हड़काने वाले साइबर ठग (Cyber Criminal) अरविंद मिश्रा को यूपी एसटीएफ (UP STF) और सर्विलांस टीम ने रविवार को गिरफ्तार कर लिया. उसने मुसाबनी के दर्जनों लोगों को अपना शिकार बनाया. ठगी के लाखों रुपये अपने कुछ खास मित्रों और नेताओं में बांटता था. 5 महीने पहले उसकी लखनऊ में भी गिरफ्तारी हुई थी.

साइबर ठग अरविंद मिश्रा यूपी के अमेठी का रहने वाला है, लेकिन मुसाबनी स्थित ससुराल में रहकर यूपी के आलाधिकारियों को फोन पर धमकाता था. खुद को सीएम योगी का ओएसडी बताता था. इसी तरह वह वाराणसी के डीएम से एक लाख रुपए राम मंदिर निर्माण के नाम पर चंदे के रूप में अपने बैंक खाते में ट्रांसफर करवा लिया. बाद में यही फॉर्मूला उसने गोंडा एसपी और कौशांबी एसपी के साथ भी आजमाया. लेकिन शक होने पर जब दोनों अधिकारियों ने इसकी पुष्टि सीएमओ से करने की कोशिश की, तो पूरे मामले से पर्दा उठा.

गिरफ्तारी के बाद यूपी एसटीएफ के अधिकारी ने बताया कि अरविंद मिश्रा पिछले 6 माह से सीएम योगी का फर्जी ओएसडी बनकर अधिकारियों से रुपये की उगाही कर रहा था. राम मंदिर निर्माण के नाम पर इसने बनारस के डीएम से एक लाख रुपये ठग लिया. इसी तरह यूपी के कई अन्य अधिकारियों को भी चूना लगाते हुए लगभग दस लाख रुपए ठग लिये.

यूपी पुलिस के मुताबिक जांच में अरविंद मिश्रा का लोकेशन बंगाल के खड़गपुर और झारखंड का मुसाबनी दिखाया. जिसके बाद एसटीएफ की टीम खड़गपुर पहुंचकर जांच पड़ताल की. लेकिन आरोपी के बारे में पता नहीं चला. परंतु उसके बैंक ट्रांजेक्शन के बारे में जानकारी मिली. जिससे पता चला कि उसका पंजाब एंड सिंध बैंक खड़गपुर में आना जाना होता है. बैंक के सीसीटीवी फुटेज में उसे एक महिला के साथ देखा गया. जिसके बाद एसटीएफ की टीम रविवार को मुसाबनी पहुंचकर साइबर ठग को गिरफ्तार किया.
जांच में पता चला कि अरविंद मिश्रा का एक अकाउंट अमेठी के पंजाब एंड सिंध बैंक में है, जहां से उसने चेक बुक ली थी. और जब अधिकारियों से ठगी का पैसा उसके इस अकाउंट में आता था तो चेक के द्वारा सारे पैसे को खड़गपुर के पंजाब एंड सिंध बैंक में ट्रांसफर कर देता था. फिर खड़गपुर जाकर पैसे निकाल लेता था.

आरोपी अरविंद मिश्रा अधिकारियों को फोन करने के लिए अलग-अलग सिमों का इस्तेमाल करता था. उसने यूपी के प्रतापगढ़ से 20 सिमें खरीद रखी थी. गिरफ्तारी के बाद यूपी एसटीएफ उसे अपने साथ लखनऊ लेकर चली गई.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज