Home /News /jharkhand /

कंबल मांगने एसडीओ ऑफिस पहुंची वृद्धा की ठंड से मौत, सीएम ने मांगी रिपोर्ट

कंबल मांगने एसडीओ ऑफिस पहुंची वृद्धा की ठंड से मौत, सीएम ने मांगी रिपोर्ट

कंबल की आस में 15 दिन तक एसडीओ दफ्तर के चक्कर लगाने के बाद दफ्तर के समीप अस्सी साल की वृद्धा की मौत के मामले में मंगलवार को सीएम रघुवर दास ने संज्ञान लिया है. सीएम ने आपदा विभाग से इस बाबत रिपोर्ट मांगी है.

कंबल की आस में 15 दिन तक एसडीओ दफ्तर के चक्कर लगाने के बाद दफ्तर के समीप अस्सी साल की वृद्धा की मौत के मामले में मंगलवार को सीएम रघुवर दास ने संज्ञान लिया है. सीएम ने आपदा विभाग से इस बाबत रिपोर्ट मांगी है.

कंबल की आस में 15 दिन तक एसडीओ दफ्तर के चक्कर लगाने के बाद दफ्तर के समीप अस्सी साल की वृद्धा की मौत के मामले में मंगलवार को सीएम रघुवर दास ने संज्ञान लिया है. सीएम ने आपदा विभाग से इस बाबत रिपोर्ट मांगी है.

कंबल की आस में 15 दिन तक एसडीओ दफ्तर के चक्कर लगाने के बाद दफ्तर के समीप अस्सी साल की वृद्धा की मौत के मामले में मंगलवार को सीएम रघुवर दास ने संज्ञान लिया है. सीएम ने आपदा विभाग से इस बाबत रिपोर्ट मांगी है.

क्या है मामला

गढ़वा थाना के नवादा गांव की रहने वाली अस्सी साल की श्यामदैयी कुंपर को गांव के लोगों ने बताया था कि समाहरणालय जाने से गरीबों को कंबल मिलता है. इसी उम्मीद से वह करीब पंद्रह दिनों से एसडीओ के दफ्तर के चक्कर लगा रही थीं. सोमवार को भी इसी उम्मीद से दफ्तर पहुंची थी कि कंबल मिल जाएगा तो ठंड की रात कट जाएगी. पर रात से पहले ही ठंड से ठिठुर कर एसडीओ ऑफिस के करीब ही वृद्धा की मौत हो गई.

 गढ़वा को मिले थे 30000 कंबल

गौरतलब है कि गरीबों को बांटने के लिए लाखों कंबल राज्य भर में बांटने के लिए महीने भर पहले राज्य सरकार ने भेजे थे. इनमें से तीस हजार कंबल गढ़वा को मिले थे. इनमें से कितने कंबल बंटे यह सवाल है. बंटे भी तो किसको बंटे, यह भी सवाल है. सवाल यह भी है कि 15 दिन एसडीओ के चक्कर काटने के बाद भी वृद्धा को कंबल नहीं मिला तो दूर दराज के क्षेत्रों में क्या और कैसे कंबल मिलता होगा.

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर