बचपन से ट्यूमर से जूझ रहा था युवक, अभिनेता सोनू सूद ने 9 लाख खर्च कर कराया इलाज

अभिनेता सोनू सूद पप्पू से बात करने के लिए उसके घर मंहगा मोबाइल भी भिजवा दिया है.

अभिनेता सोनू सूद पप्पू से बात करने के लिए उसके घर मंहगा मोबाइल भी भिजवा दिया है.

पप्पू के मुताबिक उसके इलाज में अभिनेता सोनू सूद (Sonu Sood) ने करीब 8 लाख रुपये खर्च किए. मुंबई के कोकिलाबेन अस्पताल में उसका इलाज कराया.

  • Share this:
रिपोर्ट- शैलेश कुमार

गढ़वा. बचपन से कमर के ट्यूमर से जूझ रहे 20 वर्षीय युवक पप्पू यादव को अभिनेता सोनू सूद (Sonu Sood) नई जिंदगी देने में जुटे हुए हैं. पप्पू झारखंड के गढ़वा जिले के रहने वाले हैं. डंडई थाना क्षेत्र के बौलिया गांव निवासी ब्रह्मदेव यादव के पुत्र पप्पू को बचपन से ही कमर में ट्यूमर है. वर्ष 2010 में जब वह काफी परेशान रहने लगा तो घरवालों ने उसे डालटेनगंज में डाॅक्टर से दिखाया, जहां ट्यूमर का ऑपरेशन किया गया.

ऑपरेशन के बाद पप्पू को पेशाब में परेशानी होने लगी तो उसे यूरो बैग लगाया गया. इसके बाद रांची के रिम्स में 4 वर्षों तक उसका इलाज हुआ. पर कोई फायदा नहीं हुआ. पप्पू के पिता ने बताया कि बेटे के इलाज के लिए उन्होंने 12 कट्ठा जमीन बेच दिया. करीबी से 10 लाख रुपये कर्ज भी लिया. लेकिन बीमारी ठीक होने की बजाय बढ़ती चली गई.

पप्पू ने बताया कि उसके इलाज में जमीन बिक गई. घर पर काफी कर्ज हो गया. बाद में पिता ने इलाज कराने में असमर्थता जताई. तब वह अकेले पटना, वाराणसी में कई वर्षों तक इलाज कराता रहा. इसके बाद एम्स दिल्ली इलाज कराने गया. वहां 8 दिनों तक रहा, लेकिन नंबर नहीं लगा. निराश होकर घर लौट गया. फिर वाराणसी से इलाज कराने लगा.
बतौर पप्पू गत वर्ष 2 अक्टूबर को इलाज कराने वह वाराणसी गया था. वहां उसने एक दुकान में टीवी पर देखा कि लॉकडाउन के दौरान मुंबई में बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद प्रवासी मजदूरों सहित जरूरतमंदों की दिल खोलकर सहायता कर रहे हैं. उसके मन में भी आस जगी कि वह अगर मुंबई जाएगा, तो सोनू सूद उसका भी इलाज करा देंगे. यह सोचकर वह उसी दिन मुंबई के लिए वाराणसी से ट्रेन पकड़ लिया. 4 अक्टूबर को वह मुंबई पहुंचा. और सोनू सूद के फ्लैट पर पहुंचा. वहां शुभम नामक शख्स ने उसे सोनू सूद से भेंट कराया. सोनू सूद ने उसकी परेशानी सुनकर 8 दिनों तक पप्पू को अपने पास ही रखा. फिर कोकिलाबेन अस्पताल में एक माह तक इलाज कराया.

पप्पू के मुताबित उसके इलाज में सोनू सूद ने करीब 8 लाख रुपये खर्च किए. इसके बाद नवंबर माह में दीपावली पर एक माह का दवा और पैसे देकर उसे घर भेज दिया. एक माह बाद दवा खत्म होने पर 9 दिसंबर 2020 को पप्पू दोबारा मुंबई सोनू सूद के पास गया. सोनू सूद ने फिर इलाज कराया. 14 जनवरी 2021 को जांच में पता चला कि उसकी किडनी 50 फीसद ही काम कर रही है. इस बार इलाज के बाद दो माह का दवा, पैसे और कपड़े देकर सोनू सूद ने गत 20 जनवरी को पप्पू को घर भेज दिया. और कहा कि यदि ठीक नहीं हुआ तो एम्स में ले जाकर इलाज कराऊंगा.

पप्पू ने बताया कि हाल में सोनू सूद ने वीडियो कॉलिंग के माध्यम से बात करने के लिए उसके घर रेडमी का महंगा मोबाइल भेजा है. सोनू सूद उसके इलाज के पैसे भी भेज रहे हैं. होली में कपड़ा और पैसे भेजने का भरोसा दिलाया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज