लाइव टीवी

2010 से लटका पड़ा है अधूरा बने विद्यालय भवन का निर्माण कार्य

Neelkamal | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: January 29, 2018, 3:24 PM IST
2010 से लटका पड़ा है अधूरा बने विद्यालय भवन का निर्माण कार्य
2010 से अधूरा पड़ा है यह स्कूल भवन

ग्रामीणों का कहना है कि अगर यह विद्यालय भवन बन जाता तब पांच से छह पंचायत के छात्र-छात्राओं को इसका फायदा मिलता. जंगल क्षेत्र के सभी बच्चों की यहां पढ़ाई हो जाती.

  • Share this:
सरकारी पैसों का कैसे दुरुपयोग होता है इसका ताजा उदाहरण है डाल्टेनगंज में लाखों रूपए खर्च कर नावाबाजार प्रखंड के कंडा गांव में बनवाया गया उच्च विद्यालय का अधूरा भवन. 2010 में बने भवन का निर्माण कार्य अधूरा रह गया. आज सात-आठ साल बाद भी स्कूल भवन का निर्माण पूरा नहीं किया जा सका जबकि भवन निर्माण के सिर्फ 25 प्रतिशत काम बाकी हैं.

जब उच्च विद्यालय के लिए भवन का निर्माण कार्य हो रहा था तब कंडा गांव के ग्रामीणों में खुशी थी कि उनके गांव में उच्च विद्यालय होने से गांव के छात्र छात्राओं की इंटर तक की पढ़ाई गांव में ही हो जाएगी. मगर विद्यालय भवन का निर्माण कार्य 75 फिसदी पूरा किए जाने के बाद रोक दिया गया. संबंधित विभाग की तरफ से की गई ऐसी घोर लापरवाही को लेकर स्थानीय ग्रामीणों में नाराजगी है.

विद्यालय भवन का निर्माण कार्य अधूरा रह जाने पर ग्रामीणों का कहना है कि अगर यह विद्यालय भवन बन जाता तब पांच से छह पंचायत के छात्र-छात्राओं को इसका फायदा मिलता. जंगल क्षेत्र के सभी बच्चों की यहां पढ़ाई हो जाती. मगर आज भी यहां के छात्र छात्राओं को पढ़ाई के लिए डाल्टेनगंज जाना पड़ता है.

बता दें कि 2010 में बना यह अधूरा भवन अब धीरे-धीरे कमजोर होने लगा है. ग्रामीणों का कहना है कि उन्हें मालूम नहीं कि स्कूल भवन का निर्माण कार्य क्यों रोका गया. इस अधूरे काम को पूरा करवाने के लिए कहां गुहार लगाई जाए. मगर एक बार फिर ग्रामीण जल्द से जल्द इस बिल्डिंग की जांच कराने व इसका निर्माण कार्य पूरा करने की मांग करने लगे हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गढ़वा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 29, 2018, 3:24 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर