लाइव टीवी

भूत-प्रेत मेला में अंधविश्वास का खुला खेल

Neelkamal | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: September 30, 2017, 5:10 PM IST
भूत-प्रेत मेला में अंधविश्वास का खुला खेल
नाचने-झुमने लगता है पीड़ित

पलामू में भूत-प्रेत भगाने के नाम पर अंधविश्वास का खुला खेल खेला जाता है. देशभर से लोग यहां पहुंचते हैं और भूत-प्रेत से छुटकारा पाने का दावा करते हैं.

  • Share this:
पलामू के हैदरनगर में नवरात्रि के दौरान पिछले 65 वर्षो से भूतों का मेला लगता आ रहा है. हैदरनगर पलामू के डाल्टेनगंज मुख्यालय से करीब 90 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है. इस धाम को शक्ति पीठ के नाम से भी जाना जाता है. यहां भूत-प्रेत भगाने के नाम पर अंधविश्वास का खुला खेल खेला जाता है. देशभर से लोग यहां पहुंचते हैं और भूत-प्रेत से छुटकारा पाने का दावा करते हैं.

इस जगह पर साल में दो बार चैती नवरात्रि एवं शारदीय नवरात्रि के दौरान बड़ी संख्या में लोग पहुंचते हैं. यहां ज्यादातर उन्हीं लोगों की भीड़ होती है जिनपर भूतों का साया होने की बात कही जाती है. हैदरनगर के जिस जगह पर भूत मेला लगता है वहीं पर देवी मां का विशाल मंदिर स्थापित है. इस मंदिर के पास एक जिन बाबा का मजार भी है जिसके कारण लोगों का मानना है कि यहां भूत-प्रेत से छुटकारा मिलना और भी आसान हो जाता है.

भूतों के मेले में दूर-दूर से पहुंचे ओझा गुणी का भी जमावड़ा लगा रहता है. नवरात्रि के समय यहां पर भीड़ इतनी ज्यादा हो जाती है कि लोग साड़ियों और चादरों से तम्बू बनाकर यहां रहते हैं. इन जगहों पर रहने वाले लोगों का कहना है कि जब रात होती है तब आस-पास के इलाकों में भूतों के रोने की आवाज़ सुनाई पड़ती है. इस स्थान पर लोग डर के कारण रहना पसंद नहीं करते हैं.

इस मंदिर परिसर में एक अग्नि कुंड स्थापित है. जिन लोगों पर भत-प्रेत के छाया होने की बात कही जाती है वो नाचने एवं झुमने लगता है. इस स्थान पर लोगों के शरीर में छिपी आत्मा अनेक प्रकार के करतब दिखाने लगती है जिसे देखकर लोग आश्चर्यचकित हो जाते हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गढ़वा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 30, 2017, 5:10 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर