लाइव टीवी

डांडू व सरस्वतीया नदियों के सूख जाने से जलसंकट

Shailesh Kumar | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: June 15, 2017, 6:25 PM IST
डांडू व सरस्वतीया नदियों के सूख जाने से जलसंकट
गढ़वा- जलसंकट के कारण लोगों को दूर-दूर से ढोेना पड़ रहा है पानी

झारखंड के गढ़वा जिले में डांडू व सरस्वतीया नदी के सूख जाने से शहर में जलसंकट गहराने लगा है.

  • Share this:
झारखंड के गढ़वा जिले में डांडू व सरस्वतीया नदी के सूख जाने से शहर में जलसंकट गहराने लगा है. लोग पानी के लिए दूर दूर भटकते फिर रहे हैं. पानी के लिए लोगों को सुबह से ही परेशानी उठानी पड़ रही है. लोग शासन व प्रशासन से गुहार लगा चुके हैं मगर बात बनती नहीं दिख रही है. ऐसे में लोग सुखी नदी में ही चुआरी खोदकर पानी की अपनी जरूरत को पुरा करने में जुटे हैं.

नगरपरिषद भी जिला में व्याप्त जलसंकट से अनजान नहीं हैं. लेकिन नगरपरिषद भी नदी के सूखने को ही जलसंकट का कारण बता रहा है. नगरपरिषद शहर के सभी वार्डों में टैंकर से पानी पहुंचाने का दावा भी कर रहा है. साथ ही खराब पड़े चापानलों को ठीक कराकर जलसंकट से लड़ने की बात कर रहा है.

नगरपरिषद के संतोष केशरी ने कहा कि गढ़वा शहर में डांडू नदी और सरस्वतीया नदी को लाइफ लाइन माना जाता है. लेकिन ये दोनों ही नदियां पूरी तरह से सूख गई हैं और जल की समस्या उत्पन्न हो गई है. उन्होंने कहा कि इसी कारण से गढ़वा नगर परिषद पूरे नगर में टैंकर से पानी पहुंचा रहा है. उन्होंने कहा कि खराब चापानलों की मरम्मत करा दी गई है. साथ ही यह भी कहा कि जल संकट की किसी भी परिस्थिति से निपटने के लिए नगर परिषद तैयार है.

दरअसल जिले में जलसंकट से उबरने के लिए बृहत जलापूर्ति योजना की जरूरत है. बता दें कि बृहत जलापूर्ति योजना पिछले चार सालों से लंबित है. अगर समय रहते जलापूर्ति योजना को चालू नहीं किया गया तो स्थिति और भयावह हो जा सकती है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गढ़वा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 15, 2017, 6:25 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर