• Home
  • »
  • News
  • »
  • jharkhand
  • »
  • गिरिडीह: सीसीएल का कबरीबाद माइंस ढाई साल से बंद, 10 हजार परिवारों के पेट पर आफत

गिरिडीह: सीसीएल का कबरीबाद माइंस ढाई साल से बंद, 10 हजार परिवारों के पेट पर आफत

गिरिडीह में सीसीएल का कबरीबाद माइंस बीते ढाई साल से बंद पड़ा हुआ है.

गिरिडीह में सीसीएल का कबरीबाद माइंस बीते ढाई साल से बंद पड़ा हुआ है.

Giridih News: कंसेंट टू ऑपरेट यानी सीटीओ नहीं रहने के कारण कबरीबाद माइंस से कोयले का उठाव बंद है. इसका प्रभाव कोलियरी से जुड़े दस हजार से अधिक परिवारों पर पड़ रहा है. पिछले ढाई साल से इनको रोजी-रोजगार की परेशानी है.

  • Share this:

    रिपोर्ट- एजाज अहमद

    गिरिडीह. झारखंड के गिरिडीह में सीसीएल का कबरीबाद माइंस (Coal Mines) पिछले ढाई साल से बंद है. इससे दस हजार से अधिक परिवार प्रभावित है. ग्रामीण इसको दोबारा चालू करने की मांग कर रहे हैं. यह माइंस अंग्रेजों के जमाने से उत्तम क्वालिटी के कोयले उत्पादन के लिए मशहूर रहा है.

    कंसेंट टू ऑपरेट यानी सीटीओ नहीं रहने के कारण कबरीबाद माइंस से कोयले का उठाव बंद है. इसका प्रभाव कोलियरी से जुड़े दस हजार से अधिक परिवारों पर प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से पड़ रहा है. इससे जुड़े मजदूर हो या आम लोग बीते ढाई साल से इस माइंस के चालू होने की आस लगाए बैठे हैं. लोग इसी इंतजार में हैं कि कब माइंस चालू हो और इलाके की रंगत फिर से लौट आए.

    स्थानीय सांसद चंद्रप्रकाश चौधरी व गिरिडीह विधायक सुदिव्य कुमार सोनू ने माइंस चालू करवाने का भरोसा दिलाया है. इसके लिए दोनों ने दिल्ली जाकर प्रयास भी किया. नतीजा इस माइंस को टोप तो मिला पर सीटीओ अब तक नहीं मिल पाया है. जहां हर रोज सैकड़ों गाड़ियों चला करती थीं आज ढाई साल से ट्रकों के पहिए थमे हुए हैं. कोयला लोड करने वाले मजदूर दर-दर भटक रहे हैं.

    कबरीबाद माइंस बंद रहने के कारण ढाई साल से रोड से कोयला डिस्पैच बंद है. ट्रकों को कोयला नहीं मिल पाने के कारण इनमें काम करने वाले बीस हजार से ज्यादा मजदूर बेरोजगार हुए हैं. कोलियरी क्षेत्र के बनियाडीह सेंट्रल पीठ के दर्जनों गांव के लोग रोजगार के लिए महानगरों की ओर पलायन कर रहे हैं, तो कई लोग रोजगार के लिए आज भी दर बदर की ठोकरें खा रहे हैं. कुछ इसी तरह माइंस चालू होने की आस में खाली बैठे हुए हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज