होम /न्यूज /झारखंड /Giridih News: एक माह से लापता थे दो भाई, परिजनों को जंगल में पड़े मिले कंकाल

Giridih News: एक माह से लापता थे दो भाई, परिजनों को जंगल में पड़े मिले कंकाल

लापता दो भाईयों को पुलिस ने नहीं खोजा, एक माह बाद परिजनों को जंगल में मिले कंकाल और बाइक.

लापता दो भाईयों को पुलिस ने नहीं खोजा, एक माह बाद परिजनों को जंगल में मिले कंकाल और बाइक.

Giridih News: गिरिडीह जिले के तीसरी थाना क्षेत्र से दो सगे भाइयों के एक माह से लापता होने के मामले को पुलिस ने लापरवाही ...अधिक पढ़ें

    एजाज अहमद.

    गिरिडीह. गिरिडीह (Giridih) जिले के तीसरी थाना क्षेत्र से दो सगे भाइयों के एक माह से लापता होने के मामले को पुलिस ने लापरवाही से लिया. यहां के पदनाटांड़ के रहने वाले अंशु बरनवाल व चंदन बरनवाल दो सगे भाई बीते एक माह से लापता थे, जिनका शव गुरुवार सुबह बिहार के गरही डैम से पांच किलोमीटर दूर मनवा पहाड़ी के समीप उनके परिजनों को मिला है. शव के मिलने की सूचना पूरे क्षेत्र में जंगल की आग की तरह फैल चुकी थी, बावजूद इसके पुलिस ने कोई तत्परता नहीं दिखाई. आरोप है कि पुलिस के सहयोग न करने के बाद परिजनों ने उन्हें ढूंढ निकालने का बीड़ा उठाया और उन्हें शव जंगल में पड़े मिल गए.

    जानकारी के मुताबिक गिरिडीह जिले के तीसरी थाना क्षेत्र से दो सगे भाइयों के एक माह से लापता होने के मामले को पुलिस ने लापरवाही से लिया. यहां के पदनाटांड़ के रहने वाले अंशु बरनवाल व चंदन बरनवाल दो सगे भाई बीते एक माह से लापता थे, जिनका शव गुरुवार सुबह बिहार के गरही डैम से पांच किलोमीटर दूर मनवा पहाड़ी के समीप उनके परिजनों को मिला है. दो दिन पूर्व भी इसके विरोध में रैली निकाल कर दोनों भाइयों को खोजने की मांग की थी.

    मृतक के परिवार वालों ने पुलिस पर आरोप लगाया है कि पुलिस वालों ने लापता होने के बाद जिस तरह से कार्रवाई करनी चाहिए उस तरह से कार्रवाई नहीं की. अगर समय रहते ही पुलिस गंभीर होती तो दोनों भाइयों को जिंदा बरामद किया जा सकता था. वहीं भाकपा माले के नेता राजकुमार यादव ने कहा कि हम इस मुद्दे को लेकर लेकर बिहार विधानसभा और झारखंड विधान सभा में अपनी पार्टी के विधायकों के जरिए आवाज उठाएंगे और निष्पक्ष जांच की मांग करवाएंगे ताकि जो भी अपराधी हो उसे गिरफ्तार किया जा सके.

    Tags: Crime News, Double Murder, Giridih news, Giridih Police, Jharkhand News गिरिडीह

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें