Home /News /jharkhand /

जानें, किस मॉडल का AK-47 इस्तेमाल करते हैं नक्सली, 3 की गिरफ्तारी से खुला राज

जानें, किस मॉडल का AK-47 इस्तेमाल करते हैं नक्सली, 3 की गिरफ्तारी से खुला राज

गिरिडीह के जंगल से गिरफ्तार नक्सलियों के पास से मिला नकली एके 47. (प्रतीकात्मक फोटो)

गिरिडीह के जंगल से गिरफ्तार नक्सलियों के पास से मिला नकली एके 47. (प्रतीकात्मक फोटो)

Secret of AK-47: बसमत्ता के जंगल से 3 हार्डकोर नक्सली पकड़े गए, जिनकी पहचान राजू मुर्मू, विजय सोरेन और अजीत सोरेन के रूप में हुई. पुलिस पूछताछ में गिरफ्तार दस्ते ने बताया कि इनकी योजना मनियाडीह के मोबाइल टावर को उड़ाने की थी. नकली एके-47 रखे जाने के बारे में इन नक्सलियों ने कहा कि इसका इस्तेमाल वे लोग लेवी वसूलने के लिए किया करते थे.

अधिक पढ़ें ...

गिरिडीह. नक्सलियों की रीढ़ अब टूटती जा रही है. महज 2 दिन पहले गिरिडीह के पास बसमत्ता जंगल से 3 नक्सली गिरफ्तार किए गए. इन कुख्यात नक्सलियों के पास से पुलिस ने कट्टा और कारतूस के अलावा जो सबसे चौंकाने वाली चीज जब्त की, वह थी नकली एके-47.

बता दें कि ये तीनों नक्सली एसपी अमित कुमार रेणु को मिली खुफिया सूचना के बाद दबोचे गए हैं. पुलिस को मिली सूचना के मुताबिक बसमत्ता के जंगल में 4 नक्सलियों का एक दस्ता किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने की साजिश में जुटा था. इस सूचना के बाद पुलिस की एक टीम ने इन्हें बसमत्ता के जंगल में घेर लिया. मौके से 3 हार्डकोर नक्सली पकड़े गए, जिनकी पहचान राजू मुर्मू, विजय सोरेन और अजीत सोरेन के रूप में हुई. इस बीच पुलिस की भनक लगते ही चौथा नक्सली मौके से भाग निकला था. पुलिस के मुताबिक, गिरफ्तार किए गए तीनों नक्सली कृष्णा हांसदा दस्ते के गुर्गे हैं. भागे हुए चौथे नक्सली के बारे में इन तीनों ने बताया कि उसका नाम देवी लाल है.

पुलिस पूछताछ में गिरफ्तार दस्ते ने बताया कि इनकी योजना मनियाडीह के मोबाइल टावर को उड़ाने की थी. नकली एके-47 रखे जाने के बारे में इन नक्सलियों ने कहा कि इसका इस्तेमाल वे लोग लेवी वसूलने के लिए किया करते थे. हालांकि पुलिस में दर्ज मामले में बताया गया है कि यह नकली एके-47 राजू मुर्मू से जब्त किया गया है. पुलिस का अनुमान है कि राजू मुर्मू नक्सलियों के उस दस्ते का सदस्य हो सकता है जो गांव-गांव जाकर नुक्कड़ नाटक करता है. उन नाटकों में इस तरह के नकली हथियारों का ही इस्तेमाल किया जाता है, जो दिखने में लगभग असली जैसे लगते हैं.

पुलिस सूत्रों के मुताबिक, गिरफ्तार किए गए इसी दस्ते ने ही 21 से 26 जनवरी के बीच चल रहे प्रतिरोध दिवस के दौरान मधुबन व खुखरा में दो मोबाइल टावर और डुमरी थाना क्षेत्र में एक पुल उड़ाया था. 27 जनवरी को बिहार-झारखंड बंद के दौरान चिचाकी के पास ग्रैंडकार्ड रेल लाइन पर भी इसी दस्ते ने विस्फोट किया था.

Tags: Jharkhand News गिरिडीह, Naxal Movement, Naxalites news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर