गिरिडीह में नक्सलियों ने किया दो दिवसीय मधुबन बंद का ऐलान

गिरिडीह में नक्सलियों ने दो दिवसीय मधुबन बंद बुलाया. मधुबन जैनियों का विश्व प्रसिद्ध तीर्थ स्थल है. नक्सली संगठन ने जैन संस्थान में काम करने वाले पर कथित तौर पर शोषण करने का आरोप लगाकर बंद का आह्वान किया. मधुबन में नक्सली बंदी का असर भी दिखाई दिया.

Suresh | News18 Jharkhand
Updated: October 12, 2018, 11:20 PM IST
गिरिडीह में नक्सलियों ने किया दो दिवसीय मधुबन बंद का ऐलान
नक्सलियों की घोषणा के बाद मधुबन का बंद बाजार
Suresh | News18 Jharkhand
Updated: October 12, 2018, 11:20 PM IST
गिरिडीह में नक्सलियों ने दो दिवसीय मधुबन बंद बुलाया. मधुबन जैनियों का विश्व प्रसिद्ध तीर्थ स्थल है. नक्सली संगठन ने जैन संस्थान में काम करने वाले पर कथित तौर पर शोषण करने का आरोप लगाकर बंद का आह्वान किया. मधुबन में नक्सली बंदी का असर भी दिखाई दिया. बंद के कारण देश के कई राज्यों से मधुबन आए तीर्थ यात्रियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. मधुबन में सभी दुकानें बंद रहीं और वाहनों का परिचालन बंद है. बंद के मद्देनजर पुलिस प्रशासन पुरी तरह अलर्ट हैं.

एक तरह से मधुबन पूरी तरह पुलिस छावनी में तब्दील है. सीआरपीएफ के डीआईजी सुरेश शर्मा, एसपी सुरेन्द्र कुमार झा, एसडीओ प्रेमलता मु्र्मू, एसडीपीओ नीरज कुमार सिंह सहित तमाम अधिकारी मधुबन में कैंप कर रहे हैं. महिला तीर्थ यात्री ने बताया कि खाना का कच्चा सामान है लेकिन गैस और बर्तन नहीं मिलने से परेशानी हो रही है.

जैन समाजसेवी नवीन सेट्ठी ने बताया कि मधुबन में काफी संख्या में तीर्थ यात्री आए हुए हैं और इस समय नक्सली बंदी के कारण लोगों को परेशानी हो रही है. राज्य सरकार जैन तीर्थ यात्रियों की सुविधा का ख्याल रखे. इधर सीआरपीएफ के डीआईजी सुरेश शर्मा ने बताया कि मधुबन बंद को लेकर पुलिस प्रशासन पूरी तरह मुस्तैद हैं. उन्होंने मधुबन में दूकानें आम दिनों की तरह खुले रहने का दावा भी किया.

यह भी पढ़ें - ग्लोबल हंगर इंडेक्स में खुलासा, झारखंड की आधी आबादी को नहीं मिलता है पर्याप्त खाना

यह भी पढ़ें - आर्थिक रूप से कमजोर सवर्णो को 26 फीसदी आरक्षण देने पर विचार- रामदास अठावले
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर