Home /News /jharkhand /

मनरेगा में महाघोटाला: काम किए बगैर वेंडर और पंचायत सेवक ने निकाल लिए पैसे

मनरेगा में महाघोटाला: काम किए बगैर वेंडर और पंचायत सेवक ने निकाल लिए पैसे

Giridih News: डोभा पर बोर्ड लगाए ब‍िना ही इस मद में आवंटित फंड की निकासी कर ली गई. (न्‍यूज 18 हिन्‍दी)

Giridih News: डोभा पर बोर्ड लगाए ब‍िना ही इस मद में आवंटित फंड की निकासी कर ली गई. (न्‍यूज 18 हिन्‍दी)

MGNREGA Scam in Giridih: झारखंड के गिरिडीह जिले में महात्‍मा गांधी राष्‍ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी कानून के तहत किए गए कार्य में बड़ा घोटाला सामने आया है. वेंडर और पंचायत सेवक एवं रोजगार सेवक ने काम किए बगैर ही राशि निकाल ली. वित्‍तीय अनियमि‍तता सामने आने के बाद जिम्‍मेदारों ने भी चुप्‍पी साध रखी है.

अधिक पढ़ें ...

    एजाज अहमद

    गिरिडीह. झारखंड के गिरिडीह में महात्‍मा गांधी राष्‍ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी कानून (MGNREGA) में बड़ा घोटाला सामने आया है. यहां काम किए बगैर ही फंड की निकासी करने का मामला सामने आया है. इस अनियमितता का आरोप वेंडर के साथ ही पंचायत सेवक और रोजगार सेवक पर लगा है. BDO ने बताया कि यह मामला उनके संज्ञान में आया है और छानबीन के बाद इस मामले में उचित कार्रवाई की जाएगी.

    निचले स्तर के अधिकारियों के द्वारा काम किए बगैर पैसे की निकासी करने से आलाधिकारी भी सकते में हैं. चौंकाने वाली बात यह है कि निचले स्‍तर के अधिकारी इस तरह की कारगुजारी कर लेते हैं और किसी को इसकी कानों कान खबर त नहीं होती है. इस घोटाले में प्रखंड विकास पदाधिकारी, रोजगार सेवक, पंचायत सेवक और वेंडर्स की अहम भूमिका सामने आती है. इसी तरह का एक मामला जिले के तीसरी प्रखंड के खिजुरी पंचायत में सामने आया है. यहां पर 70 से अधिक डोभा बनाया गया, लेकिन अभी तक एक भी डोभा में बोर्ड नहीं लगा है. हालांकि, बोर्ड लगाने के नाम पर लाखों रुपये की धनराशि वेंडर, पंचायत सेवक और रोजगार सेवक ने मिलकर निकाल लिए.

    सड़क किनारे झाड़ी में मिला महिला का कटा हुआ सिर, धड़ की तलाश में जुटी पुलिस 

    1 बोर्ड पर 3000 रुपये से अधिक का फंड
    बताया जाता है कि एक बोर्ड पर 3000 से अधिक रुपए दिए जाते हैं. कम से कम 70 डोभा पर बोर्ड लगने हैं. वेंडर और पंचायत सेवक ने बोर्ड लगाने के नाम पर पैसे निकाल लिए हैं और इसकी जानकारी लाभुक तक को नहीं है कि उनके डोभे में बनने वाले बोर्ड के पैसे की निकासी हो चुकी है. हालांकि, जब ऑनलाइन चेक किया गया तब पता चला कि पैसे तो 6 महीना पहले ही निकाल लिया गया है. जब इस घटना की जानकारी ग्रामीणों ने मुखिया के माध्यम से प्रखंड विकास पदाधिकारी को दिया. आरोप है कि अधिकारी भी अभी तक इस मामले को लटका कर रखा है और जांच के नाम पर टालमटोल कर रहे हैं, जबकि मामला साफ सरकारी धनराशि का गबन का है.

    बीडीओ बोले- जल्‍द होगी कार्रवाई
    इस घटना को लेकर बीडीओ संतोष प्रजापति ने बताया कि यह मामला उनके संज्ञान में आया है. इसकी जांच की जाएगी. अभी तक हमने 70 में से 3 डोभा चेक किया है, जहां पर पाया गया कि पैसे की निकासी तो कर ली गई है, लेकिन बोर्ड नहीं लगा है. इस पर जल्द ही कार्रवाई की जाएगी और जो पैसे की निकासी की गई है उसकी भी रिकवरी की जाएगी.

    Tags: Giridih news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर