होम /न्यूज /झारखंड /

आखिरकार मजहब के दायरे तोड़ हुई प्यार की जीत..

आखिरकार मजहब के दायरे तोड़ हुई प्यार की जीत..

थाने से बाहर निकलते  पति-पत्नी

थाने से बाहर निकलते पति-पत्नी

जब संजीव अपनी पत्नी और बेटे को लेने खुद ससुराल पहुंचा तो लड़की के घरवालों ने उसे पीटकर गोड्डा अस्पताल पहुंचा दिया. जहां डॉक्टरों ने उसे भागलपुर के लिए रेफर कर दिया और फिर वहां से भी दिल्ली के एम्स भेजा गया.

    अलग समुदाय की लड़की से शादी करना संजीव कुमार को इतना भारी पड़ेगा, उसने कभी सोचा नहीं था. धर्म के ठेकेदारों ने संजीव को उसके पत्नी और बच्चे से महीनों दूर रखा. जब संजीव अपनी पत्नी और बेटे को लेने खुद ससुराल पहुंचा तो लड़की के घरवालों ने उसे पीटकर गोड्डा अस्पताल पहुंचा दिया. जहां डॉक्टरों ने उसे भागलपुर के लिए रेफर कर दिया और फिर वहां से दिल्ली के एम्स भेजा गया. लगभग एक महीने के इलाज के बाद संजीव ठीक हो सका और फिर पत्नी को लेने ससुराल पहुंच गया.

    संजीव ने पत्नी और बच्चे को पाने की खातिर जिंदगी और नौकरी को दाँव पर लगा दिया. पुलिस और प्रशासन से गुहार लगाई, लेकिन हर जगह उसे निराशा ही हाथ लगी. फिर भी संजीव ने हार नहीं मानी और पिछले महीने की 4 तारिख को अपनी पत्नी और बच्चे को लेने अपने ससुराल पहुंच गया. पत्नी नजमा उर्फ़ गीता देवी भी उसके साथ दिल्ली जाने के लिए तैयार थी, लेकिन धर्म के कुछ ठेकेदारों को यह बात नागवार गुजर रही थी.

    लोगों ने परिजनों के साथ मिलकर संजीव को बूरी तरह पीट दिया. घायल पति के साथ अस्पताल जाने की इच्छा जताने पर भी पत्नी नजमा को लोगों ने नहीं जाने दिया गया. घटना के बाद जब पुलिस पर दवाब बढ़ा तो मारपीट के आरोप में पत्नी और उसके पिता को जेल भेज दिया.

    अस्पताल से ठीक होते ही सीधे महिला थाने पहुंचकर संजीव ने नजमा को जेल से छुड़वाया, जिसकी खबर मिलते ही समुदाय विशेष ने विरोध करना शुरू कर दिया. लेकिन धुन के पक्के संजीव कुमार ने नजमा अपने साथ ले जाने की बात पुलिस से कही. नज़मा ने भी एसपी के सामने पति के साथ जाने की बात कही, जिसके बाद पुलिस ने दोनों को बच्चो के साथ जाने की इजाजत दे दी.

    संजीव कुमार ने एसपी को पत्र लिखकर गोड्डा से दिल्ली तक सुरक्षित पहुंचने के लिए पुलिस अभिरक्षा की मांग भी की. मामले की गंभीरता को देखते हुए संजीव और नज़मा को रात में पुलिस थाने में ही रखा गया. बुद्धवार सुबह दोनों को बच्चे के साथ दिल्ली भेंज दिया गया.

    यह भी पढ़ें- देवघर: युवाओं की अनूठी पहल, मरीजों के परिजनों को खिलाएंगे मुफ्त भोजन

     

    Tags: Jharkhand news

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर