Home /News /jharkhand /

indian railways eastern railway achieves 100 percent electrification of 2848 km network

Indian Railways: पूर्वी रेलवे ने 100% रेल नेटवर्क का किया विद्युतीकरण, 103 Kmph की स्‍पीड से दौड़ी गाड़ी

41 किलोमीटर लंबे हंसडीहा-गोड्डा खंड में काम पूरा होने के साथ ही जोनल रेलवे ने इस मुकाम को पाया. (फाइल फोटो)

41 किलोमीटर लंबे हंसडीहा-गोड्डा खंड में काम पूरा होने के साथ ही जोनल रेलवे ने इस मुकाम को पाया. (फाइल फोटो)

Eastern Railway के प्रवक्ता एकलव्य चक्रवर्ती ने बताया कि हंसडीहा-गोड्डा खंड के रेलवे सुरक्षा आयुक्त (सीआरएस) के सफल निरीक्षण के पूरा होने के साथ शत-प्रतिशत विद्युतीकरण की उपलब्धि हासिल की गई है. हंसडीहा-गोड्डा खंड में 41 किमी ट्रैक किलोमीटर और 32 मार्ग किलोमीटर है. सीआरएस द्वारा इस खंड पर 103 किमी प्रति घंटे की गति से परीक्षण किया गया, जबकि इस खंड की अनुभागीय गति 90 किमी प्रति घंटे है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्‍ली : भारतीय रेल (Indian Railways) के पूर्वी रेलवे (Eastern Railway) ने एक बड़ी उपलब्धि के तहत अपने 2,848 किलोमीटर लंबे रेल नेटवर्क के 100 प्रतिशत विद्युतीकरण का लक्ष्य हासिल कर लिया है. 41 किलोमीटर लंबे हंसडीहा-गोड्डा खंड (Hansdiha-Godda Section) में काम पूरा होने के साथ ही जोनल रेलवे ने इस मुकाम को पाया. पूर्वी रेलवे की इस उपलब्धि से भारतीय रेलवे को 2030 तक देश के रेलवे नेटवर्क को कार्बन तटस्थ (न्यूट्रल) बनाने के अपने लक्ष्य को हासिल करने में मदद मिलेगी.

जोनल रेलवे मुख्यालय के प्रवक्ता एकलव्य चक्रवर्ती ने बताया कि हंसडीहा-गोड्डा खंड के रेलवे सुरक्षा आयुक्त (सीआरएस) के सफल निरीक्षण के पूरा होने के साथ शत-प्रतिशत विद्युतीकरण की उपलब्धि हासिल की गई है. हंसडीहा-गोड्डा खंड में 41 किमी ट्रैक किलोमीटर और 32 मार्ग किलोमीटर है. सीआरएस द्वारा इस खंड पर 103 किमी प्रति घंटे की गति से परीक्षण किया गया, जबकि इस खंड की अनुभागीय गति 90 किमी प्रति घंटे है.

जम्‍मू की ओर जाने वाली इन ट्रेनों में हो रहा बदलाव, यात्र‍ियों को होगा फायदा

इस खंड के सीआरएस निरीक्षण के सफल पूरा होने के साथ पूर्वी रेलवे (Eastern Railway) के अपने पूरे 2848 किलोमीटर को विद्युतीकृत मार्ग में बदल दिया है. यह भारतीय रेलवे के विद्युतीकृत मानचित्र में गोड्डा के एक महत्वपूर्ण स्टेशन को लाएगा. दरअसल, शत-प्रतिशत विद्युतीकरण की उपलब्धि कार्बन उत्सर्जन को कम करने में मदद करती है, जिससे भारतीय रेलवे (Indian Railways) को 2030 तक कार्बन न्यूट्रल बनाने की दिशा में एक कदम और आगे बढ़ गया है.

पूर्वी रेलवे का कुल रूट किलोमीटर 2,848 किलोमीटर है, जो हावड़ा, सियालदह, आसनसोल और मालदा डिवीजनों में फैला हुआ है, जिसमें हावड़ा डिवीजन में 889 रूट किमी, सियालदह में 719 रूट किमी, आसनसोल में 690 रूट किमी और मालदा में 550 रूट किमी शामिल हैं.

Tags: Indian railway, Indian Railways

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर