मरीज़ को ऑक्सीजन के साथ घसीटने के वायरल वीडियो पर स्वास्थ्य मंत्री की लीपापोती

झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता.

झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता.

झारखंड में एक कोरोना मरीज़ के उस वीडियो पर सियासत और सवाल जवाब का दौर चल पड़ा है, जिसमें मरीज़ को महिला घसीटते हुए दिख रही है. इस वीडियो से कई तरह के सवाल खड़े हो रहे हैं.

  • Share this:
गोड्डा (गौरव झा). एक दिन पहले वायरल हुए वीडियो पर अब टीका-टिप्पणी का दौर शुरू हो चुका है. वीडियो सिकटिया कोविड सेंटर का था, जहां एक मरीज़ को ऑक्सीजन सिलेंडर के साथ ज़मीन पर घसीटा जा रहा था. वीडियो को लगातार ट्विटर पर शेयर किया जा रहा था. इसी बीच, गोड्डा सांसद निशिकांत ने अपने ट्विटर हैंडल से इस वीडियो को शेयर करते हुए लिखा कि यदि ये हक़ीक़त है, तो शर्म से डूब मारने वाली बात है. इसके बाद इस पर खींचतान तेज़ हो गई.

वीडियो पर सियासत का सिलसिला तब तेज़ हुआ जब सांसद निशिकांत ने वीडियो को शेयर करने के साथ ही, गोड्डा ज़िला कलेक्टर और स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता को टैग भी कर दिया. इसके कुछ ही देर बाद स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने रिट्वीट करते हुए लिखा :

वीडियो की जांच किए बिना प्रतिक्रिया देना अच्छी बात नहीं है. यह मरीज़ बाथरूम जाने के दौरान गिरा, जहाँ हमारे लैब टेक्नीशियन और सेविका ने अपनी चिंता किये बगैर तत्काल जो संसाधन वहाँ दिखे उसके सहयोग से मरीज़ को बेड तक पहुंचाया और तुरंत डॉक्टर को जानकारी देते हुए कर्तव्य निभाया.


jharkhand news, ranchi news, viral video, corona in jharkhand, झारखंड समाचार, झारखंड न्यूज़, झारखंड में कोरोना, वायरल वीडियो
स्वास्थ्य मंत्री का ट्वीट

क्या और क्यों उठ रहे हैं सवाल?

इस ट्वीट के बाद लगातार सवाल आ रहे हैं कि आखिर जब मरीज़ को ऑक्सीजन मिल ही गई थी, तो उसे घसीटा क्यों गया? ऑक्सीजन लगने के बाद उसे स्ट्रेचर पर भी ले जाया जा सकता था. फिर सवाल यही उठता है कि क्या कोविड केअर सेंटर के पास स्ट्रेचर और व्हील चेयर नहीं हैं?

इस वीडियो का दूसरा पहलू और ज़्यादा गंभीर बात बताता है. सूत्रों की मानें तो मरीज़ को घसीटने वाली महिला सेविका नहीं, बल्कि मरीज़ की पत्नी है, जो खुद कोविड पॉजिटिव हैं. कई सारे सवाल खड़े हो रहे हैं और स्वास्थ्य मंत्री से जवाब मांगा जा रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज