झारखंड : दो दिन में दो हत्याकांडों से गोड्डा में सनसनी, पुलिस पर उठे सवाल

भिवानी में हत्या (कॉंसेप्ट इमेज)

भिवानी में हत्या (कॉंसेप्ट इमेज)

एक केस में डॉग स्क्वाड के साथ पुलिस घटनास्थल पर छानबीन कर रही है. दूसरे मामले में फॉरेंसिक मदद ली जा रही है. दिनदहाड़े हत्या होने के चलते पुलिस सवालों के घेरे में है और मीडिया से बच रही है.

  • Share this:

रिपोर्ट - गौरव कुमार झा

गोड्डा. दो अलग-अलग वारदात में पिछले दो दिनों में दो लाशें बरामद होने से हैरानी का माहौल है पुलिस पर सवाल खड़े हो रहे हैं. दोनों ही लाशें दिनदहाड़े पाई गईं और चारों तरफ चर्चा है कि पूरे इलाके में अपराधियों के हौसले काफी बुलंद हो चुके हैं. मौका-ए-वारदात से गोली का खोखा और कट्टा मिलने की बात सामने आई है तो दूसरे मामले में पोस्टमार्टम से हत्या का खुलासा हुआ है. इन खबरों के बीच पुलिस मीडिया से नज़रें चुराती दिख रही है.

पहले मामले के अनुसार बीते मंगलवार को 27 साल के बास्की यादव की लाश दर्घट्टी मोड़ से बरामद की गई थी. शव का पोस्टमार्टम बुधवार सुबह किया गया. इसमें पता चला कि युवक की हत्या का कारण सर पर चोट और गला दबाना है. मृतक बास्की के परिवार में 2 बहनें हैं,उनकी शादी और परिवार की सभी ज़िम्मेदारियां बास्की पर ही थीं क्योंकि वह घर में कमाने वाला शख्स था. बास्की के पिता ने कहा कि बास्की की किसी से दुश्मनी नहीं थी.

ये भी पढ़ें : किसानों के समर्थन में खुलकर आई झारखंड कांग्रेस, केंद्र के रवैये पर किए तीखे सवाल

jharkhand news, jharkhand crime news, jharkhand murder case, murders in jharkhand, झारखंड न्यूज़, झारखंड समाचार, झारखंड क्राइम न्यूज़, झारखंड अपराध समाचार
पूछताछ के लिए मौके पर पहुंची पुलिस.

लाश के पास मिला कट्टा और खोखा

इधर, बास्की का पोस्टमार्टम चर्चा में था, उधर सूचना आई कि बोआरीजोर थाना क्षेत्र के धमनी कमलदूरी में 60 वर्षीय लखीराम की हत्या गोली मार कर कर दी गई. परिजनों के मुताबिक लखीराम मंगलवार की रात शादी समारोह में गए थे, पर शाम तक वापस नहीं आए. गांव के लोग जब तलाशने निकले तो खेत में शव पड़ा मिला. सूचना पर पहुंची पुलिस को शव के बगल से एक देशी कट्टा और गोली का खोखा मिला.



ये भी पढ़ें : अब सरयू नदी के किनारे मिलीं दर्जनों लाशें, पिथौरागढ़ के लोगों में फैली दहशत

शव को पोस्टमार्टम कर लिए सदर अस्पताल गोड्डा भेजा गया, जहां पुलिस की टीम पत्रकारों से बात करने से बचती दिखी. दोनो ही मामलों में छानबीन की जा रही है. बास्की केस की जांच के लिए डॉग स्क्वाड की मदद ली जा रही है तो लखीराम हत्याकांड में फॉरेंसिक विशेषज्ञों की. लेकिन सवाल यह खड़ा है कि आखिर अपराधियों में कानून का खौफ क्यों नहीं है और पुलिस अपराध नियंत्रण के लिए क्या कर रही है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज