राज्यसभा चुनाव: बेटे के बीेजेपी उम्मीदवार बनने पर गांव में जश्न
Gumla News in Hindi

राज्यसभा चुनाव: बेटे के बीेजेपी उम्मीदवार बनने पर गांव में जश्न
गांव में समीर उरांव का परिवार

गुमला के बिशुनपुर के आदिवासी बहुल इलाके करमटोली गांव में समीर उरांव का जन्म हुआ

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
राज्यसभा चुनाव के लिए बीजेपी के द्वारा समीर उरांव को प्रत्याशी बनाये जाने पर गुमला स्थित उनके पैतृक गांव में जश्न का माहौल है. माता-पिता से लेकर पत्नी तक इसे आदिवासी समाज के लिए गौरव की बात कह रहे हैं.

गुमला के बिशुनपुर के आदिवासी बहुल इलाके करमटोली गांव में समीर उरांव का जन्म हुआ. जोखना उरांव व विपति उरांव के बेटे समीर उरांव ने यहीं से सियासत की उड़ान भरी और अब देश के उच्च सदन की शोभा बढ़ाने वाले हैं. इससे पहले वो सिसई से विधायक भी रह चुके हैं. सियासत में बेटे के इस सफलता पर माता-पिता को काफी गर्व है. उनकी बस एक ही गुजारिश है कि चाहे जितना ऊपर उठो, गरीबों की सेवा करना मत भुलना.

समीर उरांव की पत्नी घरेलू महिला हैं. उनकी माने तो राज्यसभा का उम्मीदवार बनाकर पार्टी ने उन्हें दोबारा गरीबों की सेवा करने का मौका दिया है. गांववालों को भी समीर के इस बढ़ते सियासी कद पर फक्र है. बता दें कि प्रदेश बीजेपी के उपाध्यक्ष समीर उरांव झारखंड में पार्टी का तेजी से उभरता हुआ आदिवासी चेहरा हैं.



 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading