Home /News /jharkhand /

...जब हाथों में मशाल थाम हाथियों के झुंड को भगाने निकले झारखंड के पूर्व स्‍पीकर

...जब हाथों में मशाल थाम हाथियों के झुंड को भगाने निकले झारखंड के पूर्व स्‍पीकर

Jharkhand News: झारखंड के पूर्व विधानसभा अध्‍यक्ष डॉक्‍टर दिनेश उरांव ने हाथों में मशाल थाम कर जंगली हाथियों को भगाने के अभियान में शामिल हुए. (न्‍यूज 18 हिन्‍दी)

Jharkhand News: झारखंड के पूर्व विधानसभा अध्‍यक्ष डॉक्‍टर दिनेश उरांव ने हाथों में मशाल थाम कर जंगली हाथियों को भगाने के अभियान में शामिल हुए. (न्‍यूज 18 हिन्‍दी)

Wild Elephant in Gumla: झारखंड के कई जिलों में जंगली हाथियों का आतंक बढ़ता जा रहा है. गुमला जिले के बसिया और कामडारा इलाके में 28 हाथियों के झुंड ने डेरा जमा लिया. उसे जंगलों की ओर भगाने के लिए ग्रामीणों ने मशाल अभियान चलाया. ग्रामीणों के इस प्रयास में झारखंड के पूर्व विधानसभा अध्‍यक्ष डॉक्‍टर दिनेश उरांव भी शामिल हुए. ग्रामीणों के साथ उन्‍होंने भी हाथों में मशाल लेकर जंगली हाथियों को जंगल की ओर भगाने निकल पड़े.

अधिक पढ़ें ...

    रूपेश भगत 

    गुमला. झारखंड के कई जिलों में इन दिनों जंगली हाथियों का आतंक है. आए दिन हाथियों का झुंड किसी न किसी जिले के बसावट वाले इलाके में घुस जाते हैं और जमकर उत्‍पात मचाते हैं. हाथियों के हमले में प्रदेश में अब तक कई लोगों की जान तक जा चुकी है. प्रदेश के गुमला जिले में भी हाथियों के झुंड ने डेरा डाल दिया था. इन्‍हें जंगल की ओर भगाने के लिए ग्रामीणों ने मशाल अभियान चलाया. इस कैंपेन में झारखंड विधानसभा के पूर्व स्‍पीकर डॉक्‍टर दिनेश उरांव भी शामिल हुए. हाथियों को जंगल की ओर धकेलने के लिए उन्‍होंने भी अपने हाथों में मशाल थामकर ग्रामीणों के कंधे से कंधा मिलाकर इस अभियान में हिस्‍सा लिया. खैरियत की बात यह रही कि जंगली हाथियों के झुंड को जंगल में वापस भेज दिया गया.

    जानकारी के मुताबिक, जिले के बसिया और कामडारा इलाके में पिछले कुछ दिनों से 28 जंगली हाथियों के झुंड ने डेरा डाल दिया था. हाथियों को रांची-सिमडेगा स्टेट हाइवे से पार कराने का प्रयास किया जा रहा था जो सफल रहा. स्थानीय ग्रामीण और वन विभाग की टीम कामडारा इलाके में भय व दहशत की स्थिति बनाने वाले हाथियों को खदेड़ने में कामयाब रहे. जंगली हाथियों के डेरा डालने से दहशत फैल गई थी.

    Gumla Elephant News

    जंगली हाथियों के झुंड को ग्रामीणों ने सफलतापूर्व जंगल की ओर भेज दिया. जंगली हाथियों के कारण स्‍थानीय ग्रामीण भय और दहशत के साये में जी रहे थे. (न्‍यूज 18 हिन्‍दी)
     पूर्व स्‍पीकर बने हाथी भगाओ अभियान का हिस्‍सा
    पूर्व स्पीकर डॉ. दिनेश उरांव भी ग्रामीणों संग कंधे से कंधा मिलाकर मशाल लेकर जंगल के रास्ते निकल पड़े. देर रात तक हाथियों के झुंड को रांची-सिमडेगा सड़क को पार कराने तक मशक्‍कत करते दिखे. इस दौरान वह ग्रामीणों का हौसला भी बढ़ा रहे थे. सोमवार की शाम एहतियातन रांची-सिमडेगा मार्ग पर दोनों ओर से वाहनों की आवाजाही रोक दी गई थी. जगह-जगह पर आग जलाकर हाथियों के झुंड को रेलवे क्रॉसिंग पार कराने की मुहिम चलाई गई. पुलिस टीम रांची की ओर से आने वाले वाहनों को पोकला के समीप और सिमडेगा की ओर से आने वाले वाहनों को थाना चौक पर ही रोक दिया था. वन विभाग की टीम, पुलिस और ग्रामीण मशाल व पटाखे के साथ हाथियों को आबादी वाले इलाके से भगाने के प्रयास कर रहे थे.

    बिजली सप्‍लाई रोकी
    हाथियों के झुंड को भगाने के प्रयास के बीच इलाके की बिजली काट कर अंधेरा कर दिया गया, ताकि हाथी आसानी से इलाके से निकल सकें. पिछले एक सप्ताह से कामडारा में हाथियों के झुंड द्वारा ठिकाना बना लेने की वजह से लोग कई रातों से रतजगा कर रहे थे. हाथियों का झुंड उसी इलाके में आश्रय बना रखा था. रेलवे क्रॉसिंग पार करने को लेकर हाथी कई बार पीछे हट गए. लिहाजा सोमवार दोपहर बाद से मशाल कंधे पर लिये ग्रामीण और फॉरेस्ट विभाग की टीम जंगल के आसपास अपना अभियान चलाते हुए हाथियों के झुंड को बड़ी मशक्‍कत के बाद सड़क पार कराने में सफल रहे.

    Tags: Gumla news, Jharkhand news, Terror of elephants

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर