• Home
  • »
  • News
  • »
  • jharkhand
  • »
  • Kargil Vijay Diwas: गुमला ने खोये थे 3 वीर सपूत, परिवार दर-दर ठोकरें खाने को मजूबर

Kargil Vijay Diwas: गुमला ने खोये थे 3 वीर सपूत, परिवार दर-दर ठोकरें खाने को मजूबर

कारगिल युद्ध में गुमला के तीन जवान शहीद हुए थे.

कारगिल युद्ध में गुमला के तीन जवान शहीद हुए थे.

Kargil Vijay Diwas: कारगिल युद्ध में गुमला ने अपने तीन वीर सपूत को खोया. हवलदार जॉन अगस्तुत एक्का, बिरसा उरांव और विश्राम मुंडा ने ऑपरेशन रक्षक के दौरान देश के लिए सर्वोच्च बलिदान दिया.

  • Share this:
    रिपोर्ट- रुपेश भगत

    गुमला. देश आज कारगिल युद्ध की 22वीं वर्षगांठ (Kargil Vijay Diwas) मना रहा है. इस युद्ध में गुमला ने अपने तीन वीर सपूत को खोया था. हवलदार जॉन अगस्तुत एक्का, बिरसा उरांव और विश्राम मुंडा ने ऑपरेशन रक्षक के दौरान देश के लिए सर्वोच्च बलिदान दिया. 25 दिसंबर 1999 को शहीद हुए. लेकिन इन शहीद के परिवारों को एक तो गर्व तो दूसरी तरफ गुस्सा भी है.

    गुमला जिले के रायडीह प्रखंड के परसा पंचायत के तेलिया गांव के रहने वाले हवलदार जॉन अगस्तुत एक्का 10 अगस्त 1989 को सेना में बहाल हुए थे. पदोन्नति पाकर वे हवलदार बने. हवलदार एक्का आतंकवादियों की गोली के शिकार हुए. शहादत के 6 दिन बाद परिवारवालों को इसके बारे में पता चला. तब परिवारवालों के सामने सरकारी वादों की झड़ियां लगा दी गई थीं. लेकिन 21 साल बाद भी उन वादों को कुछ नहीं हुआ. शहीद एक्का की पत्नी का पेंसन तीन सालों से बंद है. परिवार दाने-दाने को मोहताज है.

    बेटे की मानें अगर उसे सरकार नौकरी दी जाती है, तो पूरा परिवार भूखे मरने को मजबूर हो जाएगा. मां शिक्षिका थी, लेकिन अब वह भी रिटायर हो गई है. घर में कमाने वाला कोई नहीं है.

    शाहिद एक्का की तरह शहीद बिरसा उरांव के परिवार को भी दर-दर की ठोकरें खानी पड़ रही हैं. बर्री जतरा टोली गांव में रह रही शहीद बिरसा उरांव की पत्नी ने कहा कि केवल उस समय मान- सम्मान मिला. लेकिन अब उन्हें कोई पूछने वाला नहीं है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज