मिसाल: पुलिसकर्मी फागु उरांव पूरा कर रहे हैं ग्रीन झारखंड का सपना

आम तौर पर वृक्षारोपण के कार्यक्रम में एक-दो नेम प्लेट लगे होते हैं, लेकिन एएसआई फागु उरांव के कार्यक्रम में सैकड़ों नेम प्लेट दिखा. तमाम लोग अपने-अपने नाम पर पौधा लगाते नजर आये.

Sushil Kumar Singh | News18 Jharkhand
Updated: September 12, 2018, 12:19 PM IST
मिसाल: पुलिसकर्मी फागु उरांव पूरा कर रहे हैं ग्रीन झारखंड का सपना
पौधारोपण (प्रतीकात्मक तस्वीर)
Sushil Kumar Singh | News18 Jharkhand
Updated: September 12, 2018, 12:19 PM IST
गुमला के रायडीह थाना में एएसआई पद पर पदस्थापित फागु उरांव ने प्रकृति प्रेम की अनोखी मिसाल पेश की है. उन्होंने बेकार पड़ी चार एकड़ जमीन पर सैकड़ों पौधा लगाने का काम किया है. फागु उरांव की इस सराहनीय पहल में स्थानीय लोगों के साथ पंचायत प्रतिनिधियों ने भी खुलकर सहयोग किया. उन सबने पौधों को सुरक्षित रखने का भरोसा भी दिया.

फागु उरांव की इस पहल की रायडीह ब्लॉक सहित पूरे गुमला में चर्चा हो रही है. आमतौर पर पुलिस अपराधी और नक्सलियों को पकड़ने का काम करती है. उनकी व्यस्तता इतनी रहती है कि वे परिवार को भी पर्याप्त समय नहीं दे पाते हैं. इन सबके बीच गुमला जिला के एएसआई फागु उरांव ने अपनी इच्छाशक्ति से ग्रीन झारखंड के सपने को पुरा करने में योगदान किया है.

उरांव ने अपने वेतन की रकम से कई पौधों की खरीदारी कर समाज के सभी वर्ग के लोगों के सहयोग से बेकार पड़ी जमीन में लगाने का काम किया. इसमें उन्होंने प्रशासन और पुलिस विभाग के पदाधिकारियों के साथ ही जनप्रतिनिधियों, सामाजिक कार्यकर्ताओं और स्कुली बच्चों को भी शामिल किया.

आम तौर पर वृक्षारोपण के कार्यक्रम में एक-दो नेम प्लेट लगे होते हैं, लेकिन एएसआई फागु उरांव के कार्यक्रम में सैकड़ों नेम प्लेट दिखा. तमाम लोग अपने-अपने नाम पर पौधा लगाते नजर आये. फागु उरांव को जिन्होंने सहयोग किया उनका मानना है कि वे काफी खुशनसीब हैं कि इस मुहिम में हाथ बंटाया. लोगों का मानना है कि इस पहल से अन्य लोगों को भी काफी प्रेरणा मिलेगी.

पंचायत प्रतिनिधियों की मानें तो पुलिस पदाधिकारी के रूप में फागु उरांव की पहचान बनी हुई थी, लेकिन उन्होंने लोगों को प्रकृति प्रेम से भी जोड़ा. इसे भुलाया नहीं जा सकता. इस मुहिम में लगीं महिलाओं ने कहा कि वे सब इन पेड़-पौधों को पुरी सुरक्षा देकर बढ़ाएगी.

ये भी पढ़ें -

रांची: डीजल का खर्च निकालने के लिए बस संचालकों ने बढ़ाया बस किराया

अगले साल गांधीजी के चरणों में देना चाहते हैं स्वच्छ झारखंड - रघुवर दास
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर