प्रिंसिपल ने टीचर्स के साथ मिलकर प्रेगनेंट टीचर को पीटा, गर्भ में पल रहे बच्चे की मौत

आरोप है कि शिक्षिका सतमी कुमारी के साथ स्कूल की ही प्रधानाध्यापिका और अन्य सहायक शिक्षिकाओं ने मारपीट की, जिसकी वजह से सतमी के पेट में पल रहे आठ माह के बच्चे की मौत हो गई.

News18 Jharkhand
Updated: July 18, 2019, 10:54 AM IST
प्रिंसिपल ने टीचर्स के साथ मिलकर प्रेगनेंट टीचर को पीटा, गर्भ में पल रहे बच्चे की मौत
प्रिंसिपल ने टीचरों के साथ मिलकर प्रेगनेंट शिक्षिका को पीटा (सांकेतिक तस्वीर)
News18 Jharkhand
Updated: July 18, 2019, 10:54 AM IST
झारखंड के गुमला जिले में एक महिला टीचर के साथ मारपीट का मामला सामने आया है. आरोप है कि शिक्षिका सतमी कुमारी के साथ स्कूल की ही प्रधानाध्यापिका (प्रिंसिपल) और अन्य सहायक शिक्षिकाओं ने मारपीट की. इसकी वजह से सतमी के गर्भ में पल रहे 8 माह के बच्चे की मौत हो गई. पीड़िता ने इस मामले में पुलिस पर भी लापरवाही का आरोप लगाया है.

घटना घाघरा थाना क्षेत्र के पुटो गांव स्थित कार्तिक उरांव बाल विकास विद्यालय की है. पीड़ित शिक्षिका सतमी ने बताया कि वो प्रखंड के तारा गुट्टू गांव की रहने वाली है. वो पुटो गांव में रहकर उसी विद्यालय में पढ़ाती है. कुछ विषयों को लेकर स्कूल में शिक्षकों के बीच 2 गुट बन गया है. एक प्रधानाध्यापिका के साथ है जबकि दूसरा शिक्षिकों का गुट है. यह गुट उन्हें लगातार प्रताड़ित कर रहा है.

दैनिक भास्कर में छपी खबर के अनुसार 7 जुलाई को पीड़ित शिक्षिका के साथ मारपीट की गई, जिसकी शिकायत उसने 2 दिन बाद यानी 9 जुलाई को घाघरा थाना में किया. इस दौरान पुलिस ने मामले की जांच करने की बात कही और शिकायत पत्र अपने पास रख लिया, लेकिन पीड़िता को इसकी रिसीविंग नहीं दी. इस दौरान पीड़िता पुलिस के कार्रवाई का इंतजार करती रही लेकिन पुलिस ने मामले में कोई छानबीन नहीं की.

पिटाई से गर्भ में पल रहे बच्चे की मौत

प्रधानाध्यापिका और शिक्षिकाओं द्वारा की गई पिटाई से महिला टीचर के गर्भ में पल रहे 8 महीने के बच्चे की मौत हो गई (प्रतीकात्मक तस्वीर)


इस बीच, 15 जुलाई को को स्कूल की प्रधानाध्यापिका अन्य शिक्षिकाओं के साथ पीड़ित शिक्षिका सतमी के घर पर पहुंची. आरोप है कि यहां कहासुनी के बाद सभी ने सतमी पर हमला बोल दिया और धक्का-मुक्की में सतमी के पेट को भी चोट पहुंचाई. इससे सतमी के पेट में दर्द शुरू हो गया. बाद में सतमी इलाज के लिए घाघरा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंची. जहां उसने महिला चिकित्सक मनीषा कुमारी से मिलकर पूरे मामले की जानकारी दी.

जांच में पता चला कि सतमी के पेट में पल रहे बच्चे की इस घटना में मौत हो चुकी है. इसके बाद सतमी को सदर अस्पताल गुमला रेफर कर दिया गया. जहां उसका इलाज जारी है.
Loading...

ये भी  पढ़ें- कुरान बांटने की शर्त वापस, अब इस आधार पर ऋचा पटेल को जमानत

ये भी पढ़ें- कुरान बांटने का आदेश: वकीलों ने कोर्ट का किया बहिष्कार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गुमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 18, 2019, 9:23 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...